जेपी नड्डा की टीम पर मिशन-2022 की छाप सोशल इंजीनियरिंग का ऐसे रखा गया पूरा ख्याल – Daily Kiran
Thursday , 9 December 2021

जेपी नड्डा की टीम पर मिशन-2022 की छाप सोशल इंजीनियरिंग का ऐसे रखा गया पूरा ख्याल

नई दिल्ली (New Delhi) . भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने गुरुवार (Thursday) को अपनी टीम का विस्तार किया. इस टीम में यूपी के आगामी विधानसभा चुनाव (Assembly Elections)ों को लेकर पार्टी की तैयारियों की भी पूरी छाप दिख रही है. राष्ट्रीय टीम में यूपी कोटे से कुल 42 नाम शामिल हैं. इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) , मुख्यमंत्री (Chief Minister) योगी आदित्यनाथ के अलावा केंद्र और राज्य सरकार (State government) के मंत्री, सांसद, विधायक और प्रदेश के प्रभारी और सह प्रभारी भी शामिल हैं. वहीं मेनका गांधी, वरुण गांधी, सहित कई नामों को इस बार राष्ट्रीय टीम में जगह नहीं दी गई है. भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह ने 80 सदस्यीय राष्ट्रीय कार्यसमिति की सूची जारी की. राष्ट्रीय कार्यसमिति में 50 विशेष आमंत्रित और 179 स्थायी आमंत्रित सदस्य बनाए गए हैं, जो पदेन होंगे. यूपी से 80 सदस्यीय राष्ट्रीय कार्यसमिति में 13 चेहरे शामिल हैं. इनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) , मुरली मनोहर जोशी, राजनाथ सिंह, डा. महेंद्र नाथ पांडेय, स्मृति ईरानी, मुख्तार अब्बास नकवी, संतोष गंगवार, साध्वी निरंजन ज्योति, डा. संजीव बाल्यान, डा. अनिल जैन शामिल हैं. यूपी चुनाव को देखते हुए भाजपा ने राष्ट्रीय टीम बनाने में जातिगत गणित का भी पूरा ध्यान रखा है. यही कारण है कि नए चेहरों को भी इसमें जगह मिली है. प्रदेश सरकार के मंत्री दारा सिंह चौहान, स्वामी प्रसाद मौर्य, बृजेश पाठक के अलावा केंद्रीय मंत्री संजीव बाल्यान को भी राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य बनाया गया है. अमित शाह की टीम में शामिल यूपी के कई चेहरों को नड्डा की टीम में जगह नहीं दी गई है. इनमें पूर्व केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी और उनके पुत्र वरुण गांधी सबसे चर्चित नाम हैं. वरुण इन दिनों किसान आंदोलन सहित अन्य मुद्दों पर गाहे-बगाहे पत्र लिखकर पार्टी को असहज कर रहे हैं. पार्टी को उनका यह रवैया रास नहीं आ रहा. इसके अलावा विनय कटियार, पूर्व सीएम कल्याण सिंह के सांसद (Member of parliament) पुत्र राजवीर सिंह राजू भैया, डा. महेश शर्मा, रमापति राम त्रिपाठी, रामशंकर कठेरिया जैसे नाम इस बार की सूची में नहीं हैं.

Check Also

एसकेएम की पांच सदस्यीय समिति की हो सकती हैं शाह और तोमर से मुलाकात

नई दिल्ली (New Delhi) . संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) की पांच सदस्यीय समिति बुधवार (Wednesday) …