नए साल से एक माह का जीएसटी रिटर्न दाखिल नहीं करने पर जमा नहीं किया जा सकेगा जीएसटीआर-1 – Daily Kiran
Saturday , 23 October 2021

नए साल से एक माह का जीएसटी रिटर्न दाखिल नहीं करने पर जमा नहीं किया जा सकेगा जीएसटीआर-1

नई दिल्ली (New Delhi) . एक जनवरी से संक्षिप्त रिटर्न और मासिक जीएसटी के भुगतान में चूक करने वाली कंपनियों को आगे के महीने के लिए जीएसटीआर-1 बिक्री रिटर्न दाखिल करने की अनुमति नहीं होगी. जीएसटी परिषद की लखनऊ (Lucknow) में शुक्रवार (Friday) को हुई बैठक में अनुपालन को सुसंगत बनाने की दृष्टि से कई फैसले किए गए. इसमें कंपनियों या कारोबारियों द्वारा रिफंड का दावा करने के लिए आधार सत्यापन को अनिवार्य किया जाना भी शामिल है.

माना जा रहा है कि इन कदमों से जीएसटी की चोरी से राजस्व में होने वाले नुकसान को रोका जा सकेगा. जीएसटी व्यवस्था एक जुलाई, 2017 को लागू हुई थी. जीएसटी परिषद ने एक जनवरी, 2022 से केंद्रीय जीएसटी नियम के नियम 59 (6) में संशोधन करने का फैसला किया है. इसके तहत यदि किसी पंजीकृत व्यक्ति ने पिछले महीने का फॉर्म जीएसटीआर-3बी में रिटर्न दाखिल नहीं किया है, तो उसे जीएसटीआर-1 जमा करने की अनुमति नहीं होगी. अभी कंपनियां यदि पिछले दो माह क जीएसटीआर-3बी जमा करने में चूक जाती हैं, तो उन्हें बाहरी आपूर्ति या जीएसटीआर-1 जमा कराने की अनुमति नहीं होती.

कंपनियों को किसी महीने के लिए जीएसटीआर-1 बाद के महीने के 11वें दिन तक जमा कराना होता है. वहीं जीएसटीआर-3बी जिसके जरिये कंपनियां कर का भुगतान करती हैं, उसके बाद के माह के 20वें से 24वें दिन जमा कराना होता है. इसके अलावा परिषद ने जीएसटी पंजीकरण के लिए आधार सत्यापन को अनिवार्य कर दिया है तभी कोई कंपनी रिफंड के लिए दावा कर सकेगी. केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) ने जीएसटी पंजीकरण के लिए आधार सत्यापन को 21 अगस्त, 2020 से अनिवार्य किया था. परिषद ने अब फैसला किया है कि कंपनियों को अपने जीएसटी पंजीकरण को बायोमीट्रिक आधार से जोड़ना होगा, तभी वे रिफंड के लिए दावा कर सकेंगी या रद्द पंजीकरण को फिर बहाल करने के लिए आवदेन कर सकेंगी.
 

Please share this news

Check Also

गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनी को ग्राहक के हित की रक्षा करना चाहिए

नई दिल्ली (New Delhi) . भारतीय रिजर्व बैंक (Bank) के डिप्टी गवर्नर एम राजेश्वर राव …