Sunday , 25 July 2021

पाक समेत कई देशों की मदद से कश्मीर में शब्बीर ने कराया उपद्रव

 

नई दिल्ली (New Delhi) . प्रवर्तन निदेशालय ने मंगलवार (Tuesday) को कश्मीरी अलगाववादी नेता शब्बीर शाह की बेल याचिका का विरोध करते हुए कहा कि शाह के खिलाफ गंभीर आरोप हैं. ईडी ने यह भी कहा है कि शाह ने कश्मीर में तनाव पैदा करने के लिए पाकिस्तान सहित कई देशों के साथ मिलकर आपराधिक गतिविधियों को अंजाम दिया है. दिल्ली कोर्ट में शब्बीर शाह की बेल याचिका को लेकर दायर अपने जवाब में ईडी ने कहा है कि शब्बीर शाह कश्मीर में आतंकियों को मिलने वाली फंडिंग से जुड़ी गतिविधियों में भी शामिल थे. कोर्ट में शब्बीर शाह के वकील के न आने की वजह से मामले की सुनवाई अब 29 जून तक के लिए टल गई है. ईडी ने कोर्ट को दिए अपने जवाब में कहा है कि शब्बीर शाह लगातार आतंकी हाफिज सईद के संपर्क में थे. इसके अलावा वह मोहम्म शफी शायर के भी संपर्क में थे, जो कश्मीर से ही है लेकिन जेल से रिहा होकर वह अपने परिवार के साथ पाकिस्तान भाग चुका है. ईडी ने कहा है कि याचिकाकर्ता के खिलाफ गंभीर आरोप हैं और मामले की जांच अभी जारी है. पाकिस्तान से संबंधित कॉल रिकॉर्ड्स खंगाली जा रही हैं. इसके अलावा मेल की भी जांच हो रही है. शब्बीर शाह को आर्थिक मदद देने वालों की भी पहचान कर उनसे पूछताछ हो रही है. ईडी ने कहा कि अगर आरोपी को इस वक्त रिहा कर दिया जाएगा तो एक बड़ी साजिश का भांडाफोड़ करने की उसकी कोशिश बेकार हो जाएगी.

शब्बीर शाह ने अपनी बेल याचिका में यह भी कहा है कि वह गंभीर स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से जूझ रहे हैं. शाह के खिलाफ पहला केस साल 2007 में दर्ज किया गया था. यह मामला 2005 में आतंकी फंडिंग के मकसद से कथित मनी लॉन्ड्रिंग का था. ईडी ने शाह को 25 जुलाई 2017 को इसी केस के संबंध में गिरफ्तार किया था. एक अन्य मामले में जून 2019 में शाह को हिरासत में लिया था. यह केस मुंबई (Mumbai) हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद से जुड़े एक मनी लॉन्ड्रिंग मामले से जुड़ा था. बता दें कि शब्बीर शाह, मसरत आलम और आसिया अंद्राबी सहित कई अलगाववादी नेता हाफिज सईद से जुड़े मामले को लेकर न्यायिक हिरासत में हैं.

Please share this news