इस्पात मंत्री रामचंद्र ने कोयले गैसीकरण के विकास के लिए पारिस्थितिकी तंत्र के निर्माण का आह्वान किया – Daily Kiran
Wednesday , 20 October 2021

इस्पात मंत्री रामचंद्र ने कोयले गैसीकरण के विकास के लिए पारिस्थितिकी तंत्र के निर्माण का आह्वान किया

नई दिल्ली (New Delhi) . केंद्रीय इस्पात मंत्री, रामचंद्र प्रसाद सिंह ने इस्पात उद्योग, परामर्श प्रदाताओं, सीएसआईआर- केंद्रीय खनन और ईंधन अनुसंधान संस्थान (सीआईएमएफआर) जैसे हितधारकों तथा इस्पात मंत्रालय के अधिकारियों के साथ एक बैठक की अध्यक्षता की. बैठक में डायरेक्ट रिड्यूस्ड आयरन (डीआरआई) के माध्यम से इस्पात उत्पादन में कोयला गैसीकर (Sikar)ण (कोयला और पानी आदि से सिनगैस के उत्पादन की प्रक्रिया) के उपयोग की संभावनाओं पर चर्चा की गयी. इस्पात मंत्री ने स्वदेशी कोयला गैसीकर (Sikar)ण प्रौद्योगिकी के विकास की आवश्यकता पर बल दिया जो स्वदेशी रूप से उत्पादित कोयले के लिए उपयुक्त है. सिंह ने हितधारकों से उस प्रौद्योगिकी के विकास के लिए मिलकर काम करने की अपील की जिसका इस्पात उद्योग द्वारा लाभकारी तरीके से उपयोग किया जा सकता है और जो आयातित कोयले की निर्भरता को कम करने एवं “आत्मनिर्भर भारत” को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है.

बैठक में वर्तमान परिदृश्य और इस्पात क्षेत्र में कोयला गैसीकर (Sikar)ण को बढ़ावा देने के लिए आगे की राह पर चर्चा की गयी. व्यावसायिक रूप से उपलब्ध विभिन्न कोयला गैसीकर (Sikar)ण प्रौद्योगिकियों, उनसे जुड़े लाभ एवं नुकसान और भारतीय हाई-ऐश नॉनकोकिंग कोयले के लिए उनकी उपयुक्तता पर चर्चा की गई. रसायन, ईंधन, उर्वरक आदि जैसे विभिन्न क्षेत्रों में इस्तेमाल की खातिर उप-उत्पादों के निष्कर्षण के लिए प्रौद्योगिकियों के साथ-साथ कोयला गैसीकर (Sikar)ण के लिए स्वदेशी प्रौद्योगिकी के विकास पर भी चर्चा की गई. प्राकृतिक गैस की तुलना में कोयला गैस के लागत विश्लेषण और देश में कोयला गैसीकर (Sikar)ण आधारित डीआरआई संयंत्रों को अपनाने से जुड़ी समस्याओं एवं बाधाओं पर भी विचार-विमर्श किया गया. समस्याओं और बाधाओं को दूर करने के लिए आवश्यक सरकारी हस्तक्षेप और देश में कोयला गैसीकर (Sikar)ण आधारित डीआरआई संयंत्रों को अपनाने के लिए आगे की राह पर भी चर्चा की गई.

Please share this news

Check Also

नई पार्टी बना कर भाजपा से हाथ मिलाएंगे कैप्टन अमरिंदर सिंह

चंडीगढ़ . पंजाब (Punjab) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) की कुर्सी छोड़ने को मज़बूर किये गए …