औद्योगिक घरानों को बैंकिंग लाइसेंस नहीं देने के पक्ष में आरबीआई! – Daily Kiran
Friday , 22 October 2021

औद्योगिक घरानों को बैंकिंग लाइसेंस नहीं देने के पक्ष में आरबीआई!

मुंबई (Mumbai) . भारतीय रिजर्व बैंक (Bank) (आरबीआई (Reserve Bank of India) ) ने कहा ‎कि वह अभी बड़े औद्योगिक घरानों को बैंकिंग लाइसेंस देने के पक्ष में नहीं है. नवंबर 2020 में बैंक (Bank) के एक आंतरिक कार्यसमूह ने औद्योगिक घरानों को बैंकिंग लाइसेंस दिए जाने का सुझाव दिया था. उम्मीद की जा रही है कि बैंकिंग नियामक अगले 10 दिन में जारी होने वाली अंतिम रिपोर्ट में इस विषय पर अपना रुख साफ कर सकता है. जानकारी के मुता‎बिक बैंकिंग लाइसेंस के मामले में यथास्थिति बनी रहने की संभावना है. माना जा रहा है कि केंद्रीय बैंक (Bank) अपने उस रुख पर अडिग रहेगा, जिसमें किसी ऐसे औद्योगिक समूह की की गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (एनबीएफसी) को बैंकिंग लाइसेंस नहीं दिया जाएगा, जिसकी कुल परिसंपत्ति 5,000 करोड़ रुपए या ज्यादा है और समूह की कुल संपत्ति तथा सकल आय में गैर वित्तीय कारोबार की हिस्सेदारी 40 फीसदी या अधिक है.

बैंकिंग लाइसेंस के लिए औद्योगिक घराने से जुड़ी एनबीएफसी को बैंकिंग लाइसेंस चाहिए तो वित्तीय सेवा कारोबार में उसकी पैठ अधिक होनी चाहिए. केंद्रीय बैंक (Bank) नकद आरक्षित अनुपात और सांविधिक तरलता अनुपात की आवश्यकता और प्राथमिक क्षेत्र के लक्ष्यों को पूरा करने वाली इकाइयों के लिए पुराने नियमन की जगह नए नियम अपना सकता है. यह बड़ा बदलाव होगा क्योंकि आईसीआईसीआई लिमिटेड-आईसीआईसीआई बैंक (Bank) के रिवर्स विलय में या आईडीएफसी को आईडीएफसी फस्र्ट बैंक (Bank) में बदलने के समय इस तरह की रियायत नहीं दी गई थी. हालांकि आईडीबीआई लिमिटेड और आईडीबीआई बैंक (Bank) के रिवर्स विलय का मामला अपवाद है.

Please share this news

Check Also

गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनी को ग्राहक के हित की रक्षा करना चाहिए

नई दिल्ली (New Delhi) . भारतीय रिजर्व बैंक (Bank) के डिप्टी गवर्नर एम राजेश्वर राव …