नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित कैलाश सत्यार्थी को बनाया गया संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्य का एडवोकेट – Daily Kiran
Wednesday , 20 October 2021

नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित कैलाश सत्यार्थी को बनाया गया संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्य का एडवोकेट

नई दिल्ली (New Delhi) . संयुक्त राष्ट्र संघ ने नोबेल शांति पुरस्‍कार से सम्‍मानित कैलाश सत्‍यार्थी को सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) एडवोकेट बनाया है. एसडीजी एडवोकेट के रूप में सत्यार्थी संयुक्त राष्ट्र संघ के सतत विकास लक्ष्य को सन् 2030 तक हासिल करने में भूमिका निभाएंगे. सत्‍यार्थी की बाल दासता को समाप्‍त करने और बच्‍चों के गुणवत्‍तापूर्ण शिक्षा के अधिकारों के लिए वैश्विक आंदोलन के निर्माण में अग्रणी भूमिका रही है. उन्होंने बच्चों के खिलाफ हिंसा को समाप्त करने और एक ऐसी दुनिया के निर्माण के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया है, जहां हर बच्‍चे को स्‍वतंत्र, स्‍वस्‍थ, शिक्षित और सुरक्षित जीवन जीने का प्राकृतिक अधिकार हासिल हो सके. उनके इसी योगदान को देखते हुए उन्हें एसडीजी एडवोकेट बनाया गया है.

कैलाश सत्‍यार्थी की एसडीजी एडवोकेट के रूप में नियुक्ति ऐसे समय में हुई है, जब एक तरफ बाल श्रम उन्‍मूलन का अंतरराष्‍ट्रीय वर्ष चल रहा है, वहीं दूसरी तरफ पूरी दुनिया को दो दशकों में पहली बार बाल श्रम में अभूतपूर्व वृद्धि देखने को मिली है. बाल श्रमिकों की संख्‍या अब बढ़कर 16 करोड़ हो गई है. पहले यह संख्या तकरीबन 15.2 करोड़ थी. गौरतलब है कि कोविड-19 (Covid-19) के दुष्‍परिणामों ने लाखों बच्‍चों को खतरे में डाल दिया है. संयुक्त राष्ट्र संघ ने अपने सतत विकास लक्ष्य के एजेंडे में सन 2025 तक समूचे विश्वभर से बाल श्रम उन्मूलन का लक्ष्य रखा है. ऐसे में 2025 तक दुनिया से बाल श्रम को खत्‍म करने के संकल्‍प पर एक बड़ा सवाल उठ खड़ा होता है और संयुक्त राष्ट्र ने 2030 ने सतत विकास लक्ष्‍य हासिल करने की जो प्रतिबद्धता जताई है, वह भी चुनौतीपूर्ण लग रही है. एक तरफ दुनियाभर में बाल श्रमिकों की संख्‍या बढ़कर रही है, वहीं दूसरी तरफ कोरोना महामारी (Epidemic) के दुष्‍परिणामों ने लाखों बच्‍चों को और अधिक असुरक्षित बना दिया है. यह नियुक्ति वर्तमान संकट के मद्देनजर की गई है, जिसका हम सामना कर रहे हैं. सतत विकास लक्ष्‍यों पर भी इस संकट का दूरगामी असर पड़ रहा है, जिसे 2030 तक हासिल किया जाना है. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कैलाश सत्‍यार्थी को एसडीजी एडवोकेट नियुक्त करते हुए कहा, “मैं दुनियाभर के बच्चों को आवाज देने के लिए उनकी अटूट प्रतिबद्धता की सराहना करता हूं. यह समय की जरूरत है कि हम एक साथ आएं, सहयोग करें, साझेदारी बनाएं और एसडीजी की दिशा में वैश्विक कार्रवाई को तेज करने में एक दूसरे का समर्थन करें.” इस अवसर पर कैलाश सत्यार्थी ने कहा, “दुनिया के बच्चों की ओर से मैं इस नियुक्ति को स्वीकार करते हुए सम्मानित महसूस कर रहा हूं. महामारी (Epidemic) से पहले के चार वर्षों में 5 से 11 साल की उम्र के 10,000 अतिरिक्त बच्चे हर दिन बाल मजदूर बन गए. यह वृद्धि भी संयुक्त राष्ट्र एसडीजी के पहले चार वर्षों के दौरान हुई. यह एक अन्‍यायपूर्ण विकास है, जो 2030 एजेंडा की संभावित विफलता की प्रारंभिक चेतावनी देता है. जो बच्चे बाल श्रम में हैं वे स्कूल में नहीं हैं. उनकी स्वास्थ्य की देखभाल, शुद्ध जल और स्वच्छता तक सीमित या कोई पहुंच नहीं है. वे घोर गरीबी के दुश्‍चक्र में रहते हैं और पीढ़ीगत नस्लीय और सामाजिक भेदभाव का सामना करते हैं.
अजीत झा/देवेंद्र/ /नई दिल्ली (New Delhi)/18/सितम्बर/2021

Please share this news

Check Also

तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भाजपा उम्मीदवार और एक विधायक के साथ धक्का-मुक्की की

कूचबिहार (Bihar) . पश्चिम बंगाल (West Bengal) के कूचबिहार (Bihar) जिले में भारतीय जनता पार्टी …