कोरोनाकाल में दिए गए लेक्चरों को यू ट्यूब पर अपलोड करने से हर माह मिलते हैं चार लाख रुपए : गडकरी – Daily Kiran
Thursday , 28 October 2021

कोरोनाकाल में दिए गए लेक्चरों को यू ट्यूब पर अपलोड करने से हर माह मिलते हैं चार लाख रुपए : गडकरी

नई दिल्‍ली . कोरोना काल में पिछले कुछ महीने देश-दुनिया में हालात बेहद खराब थे. सबकुछ बंद हो रहा था और लोगों की नौकरियां जा रही थीं. ऐसे में कई लोगों ने यूट्यूब या अन्‍य सोशल साइट्स से कमाई का जरिया खोजा था. इस बीच केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी यूट्यूब से अच्छी-खासी कमाई होने की बात कही है. नितिन गडकरी ने एक कार्यक्रम में बताया कि कोरोना काल में मैंने दो काम किए. एक तो मैंने घर पर खाना बनाना शुरू किया और दूसरे वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए लेक्‍चर दिए. जिन्हें बाद में यूट्यूब पर अपलोड किया गया. इन्हें काफी व्यूवरशिप मिली और अब मुझे यूट्यूब हर माह 4 लाख रुपए का लाभ हो रहा है.

वहीं केंद्रीय मंत्री ने हाल ही में हरियाणा (Haryana) के सोहना में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सड़क और एक्सप्रेस-वे से जुड़े कामकाज के बारे में बताते हुए अपना एक पुराना किस्सा लोगों के साथ साझा किया था. नितिन गडकरी ने बताया था कि कैसे उन्होंने अपने ससुर के घर पर बुलडोजर चलवा दिया था. नितिन गडकरी ने बताया था कि जब उनकी नई-नई शादी हुई थी, तब उनके ससुर का घर सड़क के बीच में आ रहा था. वहां के लोगों को ट्रैफिक जाम की समस्या से जूझना पड़ रहा था. ऐसे में वहां सड़क का निर्माण काफी जरूरी हो गया. ऐसे में उन्होंने अपनी पत्नी को बिना बताए ससुर के घर पर बुलडोजर चलवा दिया और सड़क भी बनवा दी. जिससे वहां के लोगों को जाम की समस्या से हमेशा के लिए निजात मिल गई.

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने 12 सितंबर को महाराष्ट्र (Maharashtra) के नागपुर में सड़क दुर्घटनाओं को 50 फीसदी तक कम करने के उद्देश्य से प्रायोगिक आधार पर एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से संचालित परियोजना ‘आईआरएएसटीई’ का शुरुआत की है. इस दौरान वह काम में देरी करने वाले अफसरों पर भी जमकर बरसे थे. उन्‍होंने कहा था मुझे नतीजे देने वाले अफसर पसंद हैं. अपने काम में ढिलाई बरतने वाले अफसरों को डंडा मारने का काम मुझपर छोड़ देना चाहिए.

कार्यक्रम के दौरान नितिन गडकरी ने कहा था कि काम में देरी करने वाले अफसरों पर शिकंजा कसा जाना चाहिए. उनके काम की देरी का प्रभाव सिस्‍टम पर भी पड़ता है. इससे सिस्‍टम सुस्‍त हो जाता है. उन्‍होंने आगे कहा था जो सिस्‍टम काम नहीं करता उसे उखाड़कर फेंक दो और डंडा मारने का काम मुझ पर छोड़ दो. कोई ढिलाई करेगा तो मैं उसे ठोके बिना नहीं छोड़ूंगा.

Please share this news

Check Also

कांग्रेस देश और प्रदेश में नाम की बची, ये क्या कम उपलब्धि है:जयराम

करसोग . ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर का चुनाव चिन्ह कमल नंबर एक पर है और वो …