Sunday , 29 November 2020

नहीं रहे बोहरा यूथ आंदोलन के संस्थापक गुलाम हुसैन फ़ैज़ी

उदयपुर (Udaipur). दाऊदी बोहरा समाज (सुधारवादी आंदोलन) के संस्थापक, प्रमुख नेता और सेंट्रल बोर्ड ऑफ़ दाऊदी बोहरा कम्युनिटी के पूर्व चेयरमैन गुलाम हुसैन फ़ैज़ी (मैनेजर साहब) का आज 3 सितंबर 2020 बरोज़ गुरुवार (Thursday) को उदयपुर (Udaipur) में सवेरे साढ़े 10 बजे 90 साल की उम्र में निधन हो गया. गुलाम हुसैन फ़ैज़ी के निधन से उदयपुर (Udaipur) के  सुधारवादी तबके (बोहरा यूथ) में शोक की लहर दौड़ गई. दाऊदी बोहरा जमात, बोहरा यूथ संस्थान, सेंट्रल बोर्ड ऑफ़ दाऊदी बोहरा कम्युनिटी ने मरहूम गुलाम हुसैन साहब को खिराज ए अकीदत (श्रद्धांजलि) दी गई.

गुलाम हुसैन का जन्म 30 जून 1930 को राजस्थान (Rajasthan) के उदयपुर (Udaipur) में हुआ था. 1973 में उदयपुर (Udaipur) में शुरू हुए बोहरा सुधारवादी आंदोलन के गुलाम हुसैन फाउंडर मेंबर रहे है. मरहूम गुलाम हुसैन ने सुधारवादी आंदोलन की न सिर्फ नींव राखी बल्कि उनको भरपूर पोषण देते रहे. वर्ष 1973 से 1998 तक लगातार बोहरा सुधारवादी आंदोलन का चेहरा बने रहे और सफलतापूर्वक दाऊदी बोहरा जमात को सक्षम नेतृत्व प्रदान किया. हाल के कुछ वर्षो में स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या से जूझ रहे थे. पेशे से मरहूम गुलाम हुसैन ने अशोका सिनेमा, पिक्चर पैलेस और सांघी ग्रुप में बतौर मैनेजर और कुशल प्रशासक के रूप में अपनी सेवा प्रदान की. बोहरा समाज में वह ‘मैनेजर साहब’ उपनाम से मशहूर रहे है.

दाऊदी बोहरा जमात के प्रवक्ता मंसूर अली ओड़ावाला ने बताया की मरहूम गुलाम हुसैन को नमन श्रद्धांजलि पेश की गई. जिसमे सेंट्रल बोर्ड ऑफ़ दाऊदी बोहरा कम्युनिटी के संरक्षक आबिद हुसैन अदीब, चेयरमैन मंसूर अली कमांडर, दाऊदी बोहरा जमात के अध्यक्ष फ़ैयाज़ हुसैन इटारसी, सचिव ज़ाकिर हुसैन पंसारी, बोहरा यूथ के महासचिव ग़ज़नफ़र अली ओकासा, बोहरा युथ मेडिकल रिलीफ सोसायटी के अनीस मियांजी, बोहरा युथ गर्ल्स विंग की अध्यक्षा सक़ीना दाऊद ने अपने शोक सन्देश में गुलाम हुसैन के इन्तेकाल को कौम के लिए अपूरणीय क्षति बताया.