दुनिया में सबसे ज्यादा वैक्सीन लगाने वाला देश बना पुर्तगाल; देश की 86 फीसदी आबादी को लग चुकी है वैक्सीन – Daily Kiran
Sunday , 28 November 2021

दुनिया में सबसे ज्यादा वैक्सीन लगाने वाला देश बना पुर्तगाल; देश की 86 फीसदी आबादी को लग चुकी है वैक्सीन


लिस्बन . कोरोना महामारी (Epidemic) के एक भयावह दौर से गुजरने के आठ महीने बाद पुर्तगाल दुनिया में सबसे ज्यादा वैक्सीन लगाने वाला देश बन चुका है. देश की 86 फीसदी आबादी को पूरी तरह से वैक्सीन लग चुकी है. जानकारी के मुताबिक टीकों के लिए पात्र लोगों, जिसमें 12 साल से अधिक उम्र के लोग शामिल हैं, में से 98 फीसदी को पूरी तरह से वैक्सीन लग चुकी है. कोरोना महामारी (Epidemic) के दौर में यूरोपीय देश पुर्तगाल का हेल्थ केयर सिस्टम पूरी तरह से चरमरा गया था.

राजधानी लिस्बन में अस्पताल भर चुके थे और हार मान चुके डॉक्टर (doctor) लोगों से घरों पर ही इलाज करवाने की अपील कर रहे थे. जनवरी के आखिरी हफ्ते में करीब 2000 लोग वायरस की चपेट में आने से मारे गए. देश का वैक्सिनेशन प्रोग्राम भी बदहाली से जूझ रहा था. यहां की सरकार का कहना है ‎कि चीजें बहुत अच्छी जा रही हैं. हम लगभग सामूहिक प्रतिरक्षा के बिंदु तक पहुंच चुके हैं.

पुर्तगाल ने अपने लगभग सभी कोरोना (Corona virus) प्रतिबंधों को खत्म कर दिया. संक्रमण के नए मामलों में तेजी से गिरावट आई है. दैनिक मामलों का आंकड़ा 650 तक पहुंच गया है और मौतों की संख्या भी लगभग नगण्य है. अब पुर्तगाल जल्द ही बुजुर्गों और शारीरिक रूप से कमजोर लोगों को बूस्टर डोज ऑफर कर सकता है. अब कई पश्चिमी देशों की नजर पुर्तगाल की ओर हैं. इन देशों की कम से कम 20 फीसदी आबादी को टीका नहीं लगा है.

इसके अलावा देश यह भी देखना चाहते हैं कि जब पूरे देश को वैक्सीन को वैक्सीन लग जाती है तब खतरे का स्तर क्या होता है? वैक्सिनेशन के मामले में पुर्तगाल के बाद यूएई का नाम आता है. यूएई में 82 फीसदी से ज्यादा लोगों को पूरी तरह से वैक्सीन लग चुकी है जबकि 91 फीसदी आबादी कम से कम डोज प्राप्त कर चुकी है.

Check Also

साइबेरिया की कोयला खदान में भीषण अग्निकांड, 52 लोग जल मरे

मॉस्को . रूस के साइबेरिया में केमेरोवो क्षेत्र की एक कोयला खदान में भीषण आग …

. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .