Wednesday , 23 June 2021

होम आइसोलेशन वाले कोरोना मरीजों पर निगरानी बढ़ेगी

नई दिल्ली (New Delhi) . देश के अलग-अलग हिस्सों में कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों को देखते हुए दिल्ली सरकार सतर्क हो गई है. दिल्ली में जिस तरह सक्रिय मरीजों की संख्या बढ़ रही है, सरकार ने होम आइसोलेशन वाले मरीजों पर निगरानी बढ़ाने के निर्देश दिए हैं. सरकार को डर है कि होम आइसोलेशन वाले मरीज संक्रमण बढ़ने की वजह न बन जाएं. स्वास्थ्य विभाग ने सभी जिला प्रशासन को अपने इलाके में सर्विलांस टीम को फिर से सक्रिय करके होम आइसोलेशन वाले कोरोना मरीजों की निगरानी बढ़ाने को कहा है.

दिल्ली सरकार के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक अभी दिल्ली में संक्रमण की दर एक फीसदी से कम है, लेकिन कुछ दिनों से सक्रिय मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों के लापरवाही बरतने की कुछ शिकायतें भी मिली हैं. इसलिए निगरानी बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं. पूर्वी जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि होम आइसोलेशन वाले मरीजों पर निगरानी के लिए टीमें गठित की गई हैं. इसके अलावा तकनीकी सर्विलांस का भी सहारा लिया जा रहा है. कोरोना जब पीक पर था, उस समय सरकार होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों की मोबाइल लोकेशन पर नजर रखती थी. लेकिन बीते कुछ समय से जब कोरोना संक्रमण की दर में कमी आई तो इसमें थोड़ी ढील दी गई. लेकिन अब फिर से सक्रिय मरीजों की संख्या बढ़ रही है. दोबारा मोबाइल सर्विलांस बढ़ाया जाएगा.

जिलास्तर पर एक टीम भी गठित की जाएगी जो होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों के घर जाकर जांच करेगी कि वह घर पर मौजूद है कि नहीं है. संक्रमण दर पर लगाम लगाने के लिए स्वास्थ्य विभाग फिर से माइक्रो कंटेनमेंट जोन बढ़ा रहा है. जिस इलाके में कम से कम दो मरीज भी आ रहे हैं, वहां माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाया जा रहा है. दिल्ली में बीते पांच दिनों में ही कंटेनमेंट जोन की संख्या 488 से बढ़कर 580 से अधिक पहुंच गई है. दिल्ली में वर्तमान में कुल 2488 कोरोना के सक्रिय मरीज हैं. इसमें से 56.31 फीसदी यानि 1401 कोविड मरीज होम आइसोलेशन में रहकर इलाज करा रहे हैं. अगर वह नियमों का पालन नहीं करते हैं, इधर-उधर घूमते हैं तो उनकी वजह से संक्रमण आगे फैल सकता है. इसलिए सरकार ने उनपर निगरानी बढ़ाने का निर्देश दिया है.

Please share this news