पूर्वोत्तर के राज्य देश के पाम ऑयल हब के रूप में परिवर्तित होंगे: मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर – Daily Kiran
Sunday , 28 November 2021

पूर्वोत्तर के राज्य देश के पाम ऑयल हब के रूप में परिवर्तित होंगे: मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर

नई दिल्ली (New Delhi) . पूर्वोत्तर राज्यों के लिए राष्ट्रीय खाद्य तेल मिशन-पाम ऑयल पर व्यापार शिखर सम्मेलन आज गुवाहाटी (Guwahati) में आयोजित किया गया. पूर्वोत्तर के समग्र और संतुलित विकास के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) (Prime Minister Narendra Modi) की प्राथमिकता को ध्यान में रखते हुए सम्मेलन की शुरुआत केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की अध्यक्षता में पाम ऑयल पौधे को सींचने और इसके वृक्षारोपण पर एक फिल्म के प्रदर्शन के साथ हुई. कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि पाम ऑयल उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए पूर्वोत्तर राज्यों में बड़ी पहलों के जरिये सरकार के निर्णय से पूर्वोत्तर राज्यों को देश के पाम ऑयल हब में परिवर्तित किया जाएगा. तोमर ने फसल के बेहतर उत्पादन के लिए समान भूमिका निभाने पर जोर दिया और बीज नर्सरी, ड्रिप सिंचाई, तकनीकी सहायता, मिलों की स्थापना, खरीद केंद्र तथा किसानों के प्रशिक्षण हेतु बड़ा निवेश करने का आश्वासन दिया. कृषि मंत्री ने कहा कि पूर्वोत्तर राज्यों के लिए विशेष पैकेज और सहायता मिलने से किसानों की सामाजिक-आर्थिक स्थिति बदलेगी तथा बुनियादी ढांचे के विकास के साथ-साथ यहां स्थापित ऑयल पाम मिलों में रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि व्यापार शिखर सम्मेलन का उद्देश्य क्षेत्र विस्तार से लक्ष्यों की प्राप्ति, संसाधकों के माध्यम से विभिन्न राज्यों के लिए बीज से उगे पौधों की आवश्यकता, व्यवहार्यता अंतर भुगतान का विवरण, उपायों और मिशन के तहत सहायता का पता लगाना है. तोमर ने बताया कि मिशन के तहत 11,040 करोड़ रुपये के कुल परिव्यय के साथ अगले 5 वर्षों में पूर्वोत्तर राज्यों में 3.28 लाख हेक्टेयर के अलावा ऑयल पाम वृक्षारोपण के अंतर्गत 6.5 लाख हेक्टेयर का अतिरिक्त क्षेत्र तथा शेष भारत में 3.22 लाख हेक्टेयर क्षेत्र लगाया जायेगा.

Check Also

पोर्नोग्राफी केस में राज कुंद्रा को झटका

नई दिल्ली (New Delhi) . अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के पति और बिजनेसमैन राज कुंद्रा की …

. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .