Friday , 7 May 2021

दीप सिद्धू और लक्खा सिधाना को धरनास्थलों पर बुलाएगा किसान मोर्चा

हिसार . किसान आंदोलन के नेताओं ने पंजाबी एक्टर-सिंगर दीप सिद्धू के भाजपाई होने का सर्टिफिकेट कैंसिल कर दिया है. लक्खा सिधाना को भी आंदोलनकारी नेताओं ने फिर से अपना घोषित कर दिया है. संयुक्त किसान मोर्चा की कोर कमेटी के सदस्य दर्शनपाल कह रहे हैं कि गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में हिंसा फैलाने के आरोपितों-दीप सिद्धू और लक्खा सिधाना को धरनास्थलों पर बुलाया जाएगा.

ये वही किसान नेता हैं जिन्होंने गणतंत्र दिवस की हिंसा के बाद कहा था कि दीप सिद्धू भाजपा का आदमी है और भाजपा ने आंदोलन खत्म कराने के लिए साजिश के तहत हिंसा कराई. लक्खा सिधाना के लिए भी संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं ने कह दिया था कि उससे हमारा कोई संबंध नहीं है.

उधर धरनास्थलों पर लोगों की नामौजूदगी से चिंतित संयुक्त किसान मोर्चा के नेता अब फिर संसद घेरने की बात करने लगे हैं. उनकी दिक्कत यह है कि संसद के भीतर तो गुंजाइश है नहीं, क्योंकि किसान संगठनों का कोई भी नेता सांसद (Member of parliament) नहीं है. हालांकि चुनाव तो कई लड़ चुके हैं, लेकिन जमानत जब्त ही कराए हैं.

मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के पोलित ब्यूरो के सदस्य के रूप में बंगाल के उलुबेरिया लोकसभा (Lok Sabha) क्षेत्र से वह कई बार सांसद (Member of parliament) रह चुके हैं, लेकिन 2009 का लोकसभा (Lok Sabha) चुनाव हारने के बाद से वह खाली हैं और ऑल इंडिया किसान सभा के जनरल सेक्रेटरी हैं, जो मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी का किसान मोर्चा है. सो, गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के बाद संयुक्त किसान मोर्चा के नेता फिर संसद के घेराव की बात कर रहे हैं. हालांकि इस बार वे कह रहे हैं कि आंदोलनकारी हाथ बांधकर दिल्ली में प्रवेश करेंगे.

Please share this news