पायलट समर्थक सोलंकी के आरोप के बाद संकट में घिरे सीएम गहलोत, पुनिया ने पूछा किसके फोन किए जा रहे टेप?

जयपुर (jaipur) . राजस्थान (Rajasthan)में मचे सियासी घमासन के बीच मुख्यमंत्री (Chief Minister) अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) के नेतृत्व वाली सरकार एक बार फिर फोन टेपिंग के आरोपों से घिर गई है. खुद कांग्रेस विधायक वेद प्रकाश सोलंकी ने विधायकों के फोन टेप होने का दावा किया है. वहीं, पायलट समर्थक विधायक सोलंकी की ओर से फोन टेपिंग का मामला उठाए जाने के बाद भाजपा को भी सरकार के खिलाफ मुखर होने का मौका मिल गया.

इस मामले में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ सतीश पुनिया ने तीखी प्रतिक्रिया की है. उन्होंने प्रदेश में मध्यावधि चुनाव होने की बात कही. पुनियां ने कहा फोन टेपिंग को लेकर कांग्रेस विधायक का बयान खुद वस्तुस्थिति बयां कर रहा है. उन्होंने कहा इस बयान के बाद एक बार फिर पिछले साल जैसी स्थिति पैदा हो गई है, जब सरकार को खुद उपमुख्यमंत्री (Chief Minister) व पीसीसी चीफ सचिन पायलट को बर्खास्त करना पड़ा था और सरकार बाड़ेबंदी में चली गई थी.

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश पुनिया ने सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) से सवाल किए हैं. उन्‍होंने कहा राज्य सरकार (State government) फोन टेपिंग और जासूसी कर रही है, तो मेरा प्रश्न मुख्यमंत्री (Chief Minister) से है कि वह विधायक कौन हैं, जिनके फोन टेप किए जा रहे हैं. इस बात को उजागर करें. किसी भी लोकतांत्रिक प्रदेश में इस तरह की कवायद होती है, तो उसके दोषी सीधे-सीधे मुख्यमंत्री (Chief Minister) और गृहमंत्री माने जाएंगे. उनको आज नहीं तो कल जनता की अदालत में जवाब देना पड़ेगा.

मध्यावधि चुनाव को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में डॉ पूनिया ने कहा कि राज्य की कांग्रेस सरकार की अंर्तकलह सभी के सामने है. खुद पार्टी के विधायक भी लगातार सरकार पर निशाना साध रहे हैं. प्रदेश की कांग्रेस सरकार की बुनियाद कमजोर है. गहलोत सरकार लगातार डेमेज कंट्रोल में लगी हुई है, जिससे जनता के काम नहीं हो रहे हैं. विकास कार्य ठप पड़े हैं. सरकार सिर्फ अपने आप को बचाने में व्यस्त है. पार्टी की अंर्तकलह साफ तौर पर मध्यावधि चुनाव की ओर इशारा कर रही है.

Please share this news