Saturday , 16 January 2021

मुख्यमंत्री गहलोत ने माना कि पंचायत चुनाव में नहीं हुई कोरोना प्रोटोकॉल की पालना

जयपुर (jaipur) . सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने माना है कि प्रदेश में पंचायतीराज चुनावों में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना नहीं की गई. सीएम गहलोत ने कोरोना समीक्षा बैठक में कहा कि राज्य सरकार (State government) को इस बात का एहसास है कि प्रदेश में संक्रमण के बढ़ने के पीछे कई कारण हैं.

इनमें त्यौहारी सीजन के दौरान बाजारों में उमड़ी भीड़, बढ़ती सर्दी और वैवाहिक कार्यक्रमों में अधिक संख्या में लोगों की उपस्थिति के साथ-साथ नगरीय-निकाय और पंचायत चुनावों के प्रचार में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना नहीं होना भी है. सीएम ने कहा कि न्यायिक बाधा और संवैधानिक प्रावधानों के कारण सरकार ने निकाय और पंचायत चुनाव कराए. राज्य सरकार (State government) और राज्य निर्वाचन आयोग की सख्त हिदायत के बावजूद प्रचार के दौरान मास्क लगाने और डिस्टेंसिंग प्रोटोकॉल की उचित पालना नहीं हो पाई.

सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा कि कोरोना संक्रमण खतरनाक स्थिति की ओर बढ़ रहा है. जरा सी लापरवाही खुद के साथ ही दूसरों के लिये भी जानलेवा हो सकती है. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार (State government) ने संक्रमण पर नियंत्रण के लिए जनहित में कड़े फैसले लिए हैं. प्रदेश के आठ जिला मुख्यालयों पर नगरीय क्षेत्र में नाइट कर्फ्यू, शाम 7 बजे बाद बाजार बंद कराने, विवाह समारोह में 100 से अधिक लोगों के इकटठा होने और मास्क नहीं लगाने पर जुर्माना बढ़ाने जैसे फैसले जीवन की रक्षा के लिए जरूरी हैं. कोरोना संक्रमण के इस दौर में चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि राजस्थान (Rajasthan)में कोरोना की दूसरी पीक 15 दिसंबर से पहले कभी भी आ सकती है. आज प्रदेश में औसतन 3000 से ज्यादा पॉजिटिव केस प्रतिदिन आ रहे हैं. ये कोरोना की प्रदेश में दूसरी पीक है. उन्होंने प्रदेशवासियों से अपील की है कि वे इस समय बिल्कुल भी असावधानी ना बरतें.

Please share this news