Sunday , 29 November 2020

एलएंडटी ने इसरो को समय से पहले दे दिया बूस्टर प्रणाली का पहला पुर्जा

नई दिल्ली (New Delhi) . इंजीनियरिंग कंपनी लार्सन एंड टुब्रो (एलएंडटी) ने कोरोना (Corona virus) के प्र‎तिबंध के बावजूद भी इसरो को गगनयान मिशन के लिए बूस्टर प्रणाली का पहला पुर्जा बना कर समय से पहले दे दिया है. कंपनी ने बीएसई को बताया ‎कि कोविड-19 (Covid-19) के कारण लगाई गई पाबंदियों के बाद भी दुनिया के तीसरे सबसे बड़े ठोस प्रणोदक रॉकेट बूस्टर ‘एस-200’ के मध्य वाले हिस्से की आपूर्ति बिना किसी कमी के समय से पहले कर दी गई है.

कंपनी ने कहा कि इस हिस्से को एलएंडटी के पवई स्थित एयरोस्पेस विनिर्माण संयंत्र में बनाया गया है. यह भारत के पहले मानवयुक्त अंतरिक्ष यान मिशन के लिए आवश्यक विस्तृत गुणवत्ता व समयसीमा की शर्तों को पूरा करता है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने इसे देश के लिये दीपावली का उपहार घोषित करते हुए इसरो और एलएंडटी की टीम को बधाई दी. उन्होंने कहा ‎कि दोनों टीमों ने एक मानवयुक्त अंतरिक्ष यान मिशन के लिये आवश्यक सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता को बरकरार रखते हुए समय से पहले हार्डवेयर तैयार करने के लिए अथक श्रम किया है. हमें इस बात का भरोसा है कि इसरो के वैज्ञानिक, एलएंडटी के इंजीनियर और तकनीशियन मिलकर देश की आकांक्षाओं को पूरा करेंगे.