अमेरिकी राजनयिक का दावा, हमें जरा भी अंदेशा नहीं था कि गनी देश छोड़ने का प्लान बना चुके – Daily Kiran
Friday , 22 October 2021

अमेरिकी राजनयिक का दावा, हमें जरा भी अंदेशा नहीं था कि गनी देश छोड़ने का प्लान बना चुके

नई दिल्ली (New Delhi) . तालिबान के साथ बातचीत के प्रभारी अमेरिकी राजनयिक खलीलजाद ने बताया है कि काबुल को कट्टर इस्लाम को मानने वालों के हाथों से दूर रखने को लेकर तालिबान के साथ अंतिम समय में समझौता किया गया था. वहीं राष्ट्रपति गनी को तब तक पद पर बने रहना था जब तक कि दोहा में नए सरकार को लेकर समझौता न हो जाता. लेकिन 15 अगस्त को गनी के देश छोड़ने के बाद तलिबान के काबुल पर कब्जा करना और आसान हो गया.

खलीलजाद ने बताया कि अंत तक भी हमने तालिबान से काबुल में नहीं आने को लेकर समझौता किया था. लेकिन हमें इसका जरा भी अंदेशा नहीं था कि गनी अफगानिस्तान छोड़ने का प्लान बना चुके हैं. उन्होंने बताया कि गनी के जाने के बाद सुरक्षा व्यवस्था ढीला पड़ गया.इसके बाद तालिबान ने हमने पूछा कि आप काबुल की सुरक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी ले रहे हैं? लेकिन हम इस स्थिति में नहीं थे.

अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक अफगानिस्तान में अमेरिकी दूत ने पहली बार 12 अगस्त को काबुल सरकार के साथ समझौते पर चर्चा की और दो दिन के बाद काबुल की सुरक्षा को लेकर कट्टर इस्लाम को मानने वालों से समझौता किया गया. हालांकि सच है कि भविष्य के सरकार में अशरफ गनी नहीं होने वाले थे. गनी का इस्तीफा तालिबान द्वारा पूर्व निर्धारित एक शर्त थी. 13 अगस्त तक तालिबान ने काबुल को चारों ओर से घेर लिया था. तालिबान के सैन्य बढ़त को देखते हुए अमेरिकी प्रशासन ने धीरे-धीरे अपनी मांगों को कम करते गए.

Please share this news

Check Also

ममता के वित्तमंत्री को आरोप, डर के कारण 6 साल में 35,000 कारोबारी देश छोड़कर जा चुके

कोलकाता (Kolkata) .बंगाल की ममता सरकार में वित्त मंत्री अमित मित्रा ने मोदी सरकार पर …