Sunday , 11 April 2021

सतगामा खाप ने गांव में बीजेपी और जेजेपी नेताओं की एंट्री पर लगाई रोक

चरखी दादरी . किसान आंदोलन के समर्थन में खाप पंचायतों के फैसलों के अनुरूप फौगाट खाप के बाद अब सतगामा खाप ने भी भाजपा-जजपा नेताओं के गांव में एंट्री पर रोक लगा दी है. सतगामा खाप ने गांव इमलोटा में दोनों पार्टियों के गांव में बैन का बोर्ड बस स्टैंड पर लगाकर विरोध जताया है.

सतगामा खाप के प्रधान व इमलोटा गांव के सरपंच ओमप्रकाश कलकल की अगुवाई में ग्रामीण एकजुट हुए और किसान आंदोलन के समर्थन में एकजुटता के साथ संघर्ष करने का निर्णय लिया. सरपंच ओमप्रकाश कलकल ने बताया कि किसान आंदोलन को लेकर पिछले दिनों हुई गांव की पंचायत ने भाजपा-जजपा नेताओं के बहिष्कार का फैसला लिया था. इस क्रम में ग्रामीणों ने एकजुट होकर सर्वजातीय खाप की ओर से दोनों पार्टियों के नेताओं का गांव में प्रवेश निषेध का बोर्ड लगाया है. उन्होंने कहा कि उनकी किसान आंदोलन को लेकर लड़ाई जारी रहेगी.

बता दें कि किसान आंदोलन के कारण करनाल में भाजपा और जेजेपी नेताओ की मुश्किलें बढ़ गई हैं. इन्द्री हलके के 9 गांव के किसानों भाजपा-जजपा नेताओं बहिष्कार कर दिया है. इसके अलावा भारतीय किसान यूनियन के सदस्यों ने एकत्रित होकर एक मींटिग कर अपने गांव में बीजेपी व जेजेपी नेताओं का बहिष्कार करके गांव घुसने पर रोक लगा दी है. यह फैसला उपस्थित सभी ने एकजुट होकर लिया है. गांव वासियों ने एक बैनर भी गांव के मुख्य द्वार पर लगाया जिसमें लिखा है कि बीजेपी व जेजेपी नेताओं का गांव में आना मना है.

किसानों ने बताया कि देश के किसान इतनी भारी संख्या में पिछले कई महीनों से अपनी मांगों को लेकर सडक़ों पर बैठे हुए हैं लेकिन सरकार उनकी मांगों को अनसुना कर रही है. लगभग 100 से भी ज्यादा किसान अपनी जान गंवा बैठे हैं लेकिन सरकार ने उनके प्रति संवेदना व्यक्त तक नहीं की है.

Please share this news