डेल्टा प्लस वैरिएंट के नए मामलों से सरकार की चिंता बढ़ी

भोपाल (Bhopal) . मध्य प्रदेश में कोरोना के डेल्टा प्लस वैरिएंट के मामले लगातार सामने आने के कारण सरकार की चिंता बढ़ गई है. प्रदेश में अब तक कोरोना से संक्रमित 6 मरीजों में डेल्टा प्लस वैरिएंट की पुष्टि हो चुकी है. स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक अब तक भोपाल (Bhopal) में 3, उज्जैन में 2 और अशोक नगर में कोरोना संक्रमित एक मरीज में डेल्टा प्लस वैरिएंट मिला है.

delta-plus

जिन 6 कोरोना संक्रमित मरीजों में डेल्टा प्लस वैरिएंट मिला है उनमें 2 की इलाज के दौरान मौत हो गई है. डेल्टा प्लस वैरिएंट से संक्रमित उज्जैन के एक और अशोक नगर के संक्रमित मरीज ने भोपाल (Bhopal) के निजी अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था. कोरोना के डेल्टा प्लस वैरियंट के केस मई के दूसरे पखवाड़े में रिपोर्ट हुए थे.

स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के मुताबिक डेल्टा प्लस वैरियंट से संक्रमित दोनों मरीजों को वैक्सीन की डोज नहीं लगी थी वहीं जिन चार डेल्टा प्लस संक्रमित लोगों को वैक्सीन लगी थी उनको अस्पताल में एडमिट करने की भी जरूरत नहीं पड़ी.

कोरोना के डेल्टा प्लस वैरिएंट के लगातार मिलते मामलों ने केंद्र के साथ राज्य सरकार (State government) की चिंता बढ़ा दी है. डेल्टा प्लस वैरिएंट को लेकर केंद्र सरकार (Central Government)ने प्रदेश को अलर्ट जारी किया है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्य को विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए है. वहीं केंद्र की एडवाइजरी के बाद अब सरकार अलर्ट मोड पर आ गई है.

प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 275 मरीज स्वस्थ हुए हैं,जबकि नए केस सिर्फ 84 आए हैं. प्रदेश में कोरोना का रिकवरी रेट 98.7 फीसदी हो गया है वहीं संक्रमण दर घटकर अब सिर्फ 0.12 फीसदी रह गई है. कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए प्रदेश में मंगलवार (Tuesday) को 65 हजार 869 टेस्ट हुए हैं.


Please share this news