बदल सकता है महाराष्ट्र का सियासी समीकरण, शिवसेना ने दिए बीजेपी को सुलह के संकेत – Daily Kiran
Wednesday , 20 October 2021

बदल सकता है महाराष्ट्र का सियासी समीकरण, शिवसेना ने दिए बीजेपी को सुलह के संकेत

मुंबई (Mumbai) , . महाराष्ट्र (Maharashtra) में किसी भी वक्त सियासी समीकरण बदलने के संकेत मिल रहे हैं. दरअसल राज्य की सत्ताधारी पार्टी शिवसेना ने प्रमुख विपक्षी दल बीजेपी से सुलह के संकेत दिए हैं. महाराष्ट्र (Maharashtra) के औरंगाबाद (Aurangabad) के एक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री (Chief Minister) उद्धव ठाकरे की ओर से बीजेपी नेता रावसाहेब दानवे को भावी सहयोगी कहकर संबोधित किए जाने से राज्य की सियासत में हडकंप मच गया है. ज्ञात हो कि दोनों पार्टियों के बीच करीब 3 दशकों से गठबंधन था जो 2019 में टूट गया था. औरंगाबाद (Aurangabad) शहर में एक कार्यक्रम के दौरान सीएम ठाकरे और रेल राज्यमंत्री रावसाहेब दानवे एक ही मंच पर थे. दानवे की ओर इशारा करते हुए ठाकरे ने कहा कि ये हमारे पूर्व सहयोगी हैं और भविष्य में अगर साथ आते हैं तो भावी सहयोगी हैं. साथ आना और भावी सहयोगी, इन शब्दों ने सियासी गलियारों में चर्चा छेड़ दी कि उद्धव ठाकरे बीजेपी को सुलह का संकेत दे रहे हैं. इस बीच शिवसेना सांसद (Member of parliament) संजय राउत की ओर से पीएम मोदी के जन्मदिन पर दिए गए बयान ने भी शिवसेना और बीजेपी के बीच करीबी की चर्चा को और बल दे दिया. राउत ने कहा कि मोदी जैसे कद का कोई दूसरा नेता भारत में नहीं है. अटल बिहारी वाजपेयी के बाद बीजेपी को शिखर पर लाने का काम पीएम मोदी ने किया है. पहले बीजेपी दूसरी पार्टियों के साथ गठबंधन करके सरकार बनाती थी लेकिन पीएम मोदी के कार्यकाल में बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिला है. आपको बता कि कुछ महीने पहले शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक ने तो मुख्यमंत्री (Chief Minister) उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर गुहार लगाई थी कि केंद्रीय एजेंसियों की ओर से प्रताड़ना खत्म करने के लिए बीजेपी के साथ सुलह कर लेनी चाहिए. सियासी हलकों में चर्चा हो रही है कि कहीं सरनाईक की सलाह को गंभीरता से तो नहीं लिया जा रहा. उल्लेखनीय है कि साल 2019 का विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) बीजेपी और शिवसेना ने गठबंधन करके लड़ा था लेकिन मुख्यमंत्री (Chief Minister) की कुर्सी को लेकर दोनों पार्टियों में मनमुटाव हो गया और गठबंधन टूट गया. जिसके बाद शिवसेना ने कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बना ली और मुख्यमंत्री (Chief Minister) पद हासिल किया. इस बीच केंद्रीय एजेंसियों की ओर से ठाकरे सरकार से जुड़े तमाम नेताओं पर एक के बाद एक आपराधिक मामले दर्ज होने शुरू हो गए. जिसके बाद शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक ने बीजेपी के साथ सुलह करने की खुलेआम सलाह मुख्यमंत्री (Chief Minister) उद्धव ठाकरे को दे दी.

Please share this news

Check Also

तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भाजपा उम्मीदवार और एक विधायक के साथ धक्का-मुक्की की

कूचबिहार (Bihar) . पश्चिम बंगाल (West Bengal) के कूचबिहार (Bihar) जिले में भारतीय जनता पार्टी …