Friday , 16 April 2021

विस्फोटक से लदी कार के मामले की जांच एनआईए को सौंपी गई

नई दिल्ली (New Delhi) . बिजनेसमैन मुकेश अंबानी के मुंबई (Mumbai) स्थित घर ‘एंटीलिया’ के बाहर से विस्फोटक से लदी कार बरामद होने के मामले की जांच एनआईए करेगा. यह जानकारी महाराष्ट्र (Maharashtra) सरकार के आधिकारिक प्रवक्ता ने सोमवार (Monday) को दी. अभी तक इस मामले की जांच महाराष्ट्र (Maharashtra) एटीएस कर रही थी. पूर्व मुख्यमंत्री (Chief Minister) देवेंद्र फडणवीस ने एनआईए से मामले की जांच कराने की मांग की थी.

हालांकि, इसे राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने खारिज कर दिया था.दक्षिण मुंबई (Mumbai) में अंबानी के बहुमंजिला घर के पास 25 फरवरी को जिलेटिन की 20 छड़ों के साथ एक स्कॉर्पियो कार पाई गई थी. पुलिस (Police) ने कहा था कि कार को एयरोली-मुलुंड पुल के पास से आठ फरवरी को चुराया गया. इसके बाद दावा किया गया था कि गाड़ी का मालिक हीरेन मनसुख है. शुक्रवार (Friday) को वह मृत पाया गया था. हालांकि, बाद में महाराष्ट्र (Maharashtra) के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने विधानसभा में कहा कि मनसुख कार का मालिक नहीं, बल्कि सैम मटन हैं.

महाराष्ट्र (Maharashtra) के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने विधानसभा में कहा था, ”कार के मालिक सैम मटन थे, जिन्होंने मनसुख को इंटीरियर का रखरखाव करने का काम दिया था. जब सैम ने इसके लिए भुगतान नहीं किया तो हिरेन ने यह कार अपने पास रख ली. इस मामले को एटीएस को सौंप दिया गया है. उधर, मनसुख हीरेन की मौत के मामले में महाराष्ट्र (Maharashtra) की एटीएस ने रविवार (Sunday) को अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या (Murder) का मुकदमा दर्ज किया है. नियमानुसार, ठाणे (Thane) जिले की मुंब्रा पुलिस (Police) ने मामले से संबंधित दस्तावेज एटीएस को सौंप दिए हैं. हीरेन के परिवार के सदस्यों ने हत्या (Murder) का मामला दर्ज किए जाने की मांग की थी और उनका शव लेने से इंकार कर दिया था.

हालांकि, पुणे (Pune) के वरिष्ठ पुलिस (Police) अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद परिजन शनिवार (Saturday) को शव लेने पर सहमत हुए थे. मृतक की पत्नी विमला हीरेन ने पुलिस (Police) में शिकायत दर्ज कराई थी. हीरेन ने महाराष्ट्र (Maharashtra) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) और गृह मंत्री को पत्र लिखकर आरोप लगाए थे कि पुलिस (Police) और मीडिया (Media) द्वारा उनका उत्पीड़न किया जा रहा है. कांग्रेस ने भी हीरेन के परिवार को जल्द से जल्द न्याय दिए जाने की मांग की थी. प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत ने एक बयान में उम्मीद जताई थी कि एटीएस हीरेन की मौत के मामले की जड़ तक जाएगी और इसके पीछे की साजिश का पर्दाफाश करेगी. उन्होंने कहा कि हीरेन के परिवार को जल्द से जल्द न्याय मिलना चाहिए.

Please share this news