काश, जादू की छड़ी होती तो आसानी से कर पाता सुरक्षा परिषद में सुधार : अब्दुल्ला शाहिद – Daily Kiran
Wednesday , 20 October 2021

काश, जादू की छड़ी होती तो आसानी से कर पाता सुरक्षा परिषद में सुधार : अब्दुल्ला शाहिद

न्यूयार्क . संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के अध्यक्ष अब्दुल्ला शाहिद ने कहा कि अगर उनके पास जादू की छड़ी होती तो वह आसानी से सुरक्षा परिषद में सुधार कर पाते. उन्होंने उम्मीद जताई कि संयुक्त राष्ट्र के सदस्य इस प्रक्रिया को गंभीरता से लेंगे. मालदीव के विदेश मंत्री शाहिद को इस साल सात जुलाई को संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र का अध्यक्ष चुना गया है.

शाहिद ने कहा काश मेरे पास सुरक्षा परिषद में बदलाव और सुधार करने के लिए जादू की छड़ी होती. 1979 में मालदीव सुरक्षा परिषद पर एक एजेंडा शामिल करने के उद्देश्य से 10 देशों के समूह में शामिल हुआ और मुझे काफी गर्व है कि मालदीव पहले 10 देशों में से एक है जिसने इसकी पहल की. उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा हालांकि अध्यक्ष के तौर पर मेरे पास जादू की छड़ी नहीं है, मैं उम्मीद करता हूं कि सदस्य इस प्रक्रिया को गंभीरता से लेंगे.
उन्होंने कहा वह अंतर-सरकारी वार्ता (आईजीएन) के लिए सह-वार्ताकार नियुक्त करेंगे, ताकि उन्हें और संयुक्त राष्ट्र सदस्यों के पास इस पर काम करने के लिए और वक्त मिल सके. संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने कहा था मैंने पहले भी कई बार कहा है कि आईजीएन को धुएं की परत के तौर पर इस्तेमाल नहीं किया जा सकता. आज आईजीएन पर काम शुरू करने के संशोधित फैसले के साथ हम अगले सत्र की ओर इस उम्मीद के साथ बढ़ेंगे कि हम सुरक्षा परिषद में लंबे समय से अटके सुधार की ओर निर्णायक प्रगति कर सकें.

Please share this news

Check Also

तुर्की के भूमध्यसागरीय तट पर महसूस किए गए तेज भूकंप के झटके

अंकारा . तुर्की के भूमध्यसागरीय तट पर भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए हैं.तुर्की …