हाईकोर्ट का यूपी डीजीपी को आदेश तत्कालीन एसपी मैनपुरी को हटाए या जबरन रिटायर करें – Daily Kiran
Saturday , 23 October 2021

हाईकोर्ट का यूपी डीजीपी को आदेश तत्कालीन एसपी मैनपुरी को हटाए या जबरन रिटायर करें

नई दिल्ली (New Delhi) . इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मैनपुरी में छात्रा अनुष्का पांडेय की फांसी के मामले में प्रदेश के डीजीपी मुकुल गोयल को जमकर फटकार लगाई. कोर्ट ने डीजीपी से कहा है कि तत्कालीन एसपी को हटाया जाए या जबरन सेवानिवृत्त करें. कोर्ट ने जवाहर नवोदय विद्यालय मैनपुरी की छात्रा की फांसी के बाद पंचनामे की वीडियो रिकार्डिंग देखी. कोर्ट ने पुलिस (Police) के रवैये पर कड़ी नाराजगी जाहिर की और डीजीपी को पूरी तैयारी के साथ कर कोर्ट में आने का निर्देश दिया. महेंद्र प्रताप सिंह की जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश (judge) एम एन भंडारी तथा न्यायमूर्ति ए के ओझा की खंडपीठ ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट देखने से लगता है कि छेड़छाड़ की गई है. गले में फांसी के निशान संदेह पैदा कर रहे. कोर्ट ने डीजीपी से कहा है कि वह कार्रवाई करें, नहीं तो कड़ा कदम उठाना पड़ेगा. मामले के तथ्यों के अनुसार मैनपुरी में नाबालिग छात्रा ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी. उसके कपड़ों व शरीर पर स्पर्म पाए गए थे. इसके बावजूद पुलिस (Police) टीम अपराधियों तक पहुंचने में विफल रही है. 24 अगस्त 2021 के आदेश के अनुपालन में केस डायरी के साथ एसआईटी के सदस्य हाजिर हुए और बताया 16 सितंबर 2019 की घटना की एफआईआर (First Information Report) 17 जुलाई 2021 को दर्ज कराई गई.

कोर्ट ने कहा कि गंभीर आरोप के बावजूद तीन माह बाद भी अभियुक्तों से पूछताछ नहीं की गई. विवेचक ने देरी का कारण भी नहीं बताया. छात्रा स्कूल में फांसी पर लटकी मिली. मां ने परेशान करने व मारपीट कर फांसी पर लटकाने का गंभीर आरोप लगाया है. हालांकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में फांसी के निशान के सिवाय शरीर पर चोट नहीं पाए गए हैं. पंचनामा की फोटोग्राफी नहीं है. सरकारी वकील ने बताया कि एसपी मैनपुरी का तबादला कर दिया गया है. विभागीय जांच कार्यवाही शुरू की गई. 16 सितंबर को नवोदय विद्यालय भोगांव में अनुष्का की मौत हुई. उसका शव फांसी पर लटका मिला. इस घटना में अनुष्का के पिता राजेंद्र पांडेय की ओर से विद्यालय के छात्र (student) सहित पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है. मामले में सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर आईजी कानपुर (Kanpur) मोहित अग्रवाल की अध्यक्षता एसआईटी जांच कर रही है. जांच टीम में शामिल एसपी मैनपुरी अजय कुमार ने अनुष्का कांड का खुलासा करने के लिए अब तक 21 लोगों के पॉलीग्राफी टेस्ट कराए हैं. 12 लोगों का डीएनए कराने के लिए रक्त के नमूने लिए गए हैं लेकिन जांच पूरी तरह निष्पक्ष हो इसके लिए एसपी ने 10 अन्य लोगों के डीएनए कराने का फैसला लिया था.

Please share this news

Check Also

ममता के वित्तमंत्री को आरोप, डर के कारण 6 साल में 35,000 कारोबारी देश छोड़कर जा चुके

कोलकाता (Kolkata) .बंगाल की ममता सरकार में वित्त मंत्री अमित मित्रा ने मोदी सरकार पर …