वैदिक गणित का हिस्सा बने कोडिंग कंप्यूटिंग के कोर्स

 

नई दिल्ली (New Delhi) . देश-विदेश में वैदिक गणित की बढ़ती मांग के बीच चौ. चरण सिंह विश्वविद्यालय ने कैंपस में जारी इस कोर्स का दायरा बढ़ा दिया है. वैदिक गणित को कोडिंग और कंप्यूटिंग के साथ जोड़ा गया है. जल्द ही कैंपस में वैदिक गणित में रिसर्च एवं ट्रेनिंग प्रोग्राम भी शुरू होगा. कैंपस में तीन वर्षों से जारी इस कोर्स में 75 स्टूडेंट वैदिक गणित सीख चुके हैं. वैदिक गणित पर छात्रों के रिसर्च पेपर राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय जर्नल में प्रकाशित हुए हैं. डीन साइंस प्रो. एमके गुप्ता, एचओडी प्रो. शिवराज सिंह, आईआईटी रुड़की से प्रो. आरसी मित्तल, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय से प्रो. निधि हांडा, प्रो. सीके गोयल, डॉ. विनोद अग्रवाल, डॉ. शशि शर्मा, डॉ. केपी सिंह और डॉ. ऋषि अग्रवाल की मौजूदगी में वैदिक कोर्स के सिलेबस पर मंथन हुआ. नई शिक्षा नीति के अनुरूप कोर्स को डिजाइन किया गया. प्रो. आरसी मित्तल के अनुसार आईआईटी रुड़की से जर्मन एवं रशियन एंबेसी ने वैदिक गणित विशेषज्ञों की मांग की थी. इस कोर्स की मांग विदेशों में बढ़ रही है. प्रो. शिवराज सिंह के अनुसार वैदिक गणित का कोडिंग और कंप्यूटर प्रोग्रामिंग में योगदान जैसे विषयों को जोड़ा गया है. छात्र (student) अब यह सीखेंगे कि किस तरह वैदिक गणित आधुनिक तकनीकी एवं गणित के साथ जुड़ा हुआ है.

Please share this news