Friday , 14 May 2021

कांग्रेस हमेशा मेहनतकश जनता के साथ खड़ी है: अनिल कुमार

नई दिल्ली (New Delhi) . अखिल भारतीय कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी के आव्हान पर केन्द्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन के तहत किसानों के अधिकारों की रक्षा के लिए किसान अधिकार दिवस के रुप में आज सभी राज्यां में राज-निवासां का घेराव किया गया. इसके तत्वाधान में दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के हजारों कार्यकर्ताओं ने आज दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अनिल कुमार के नेतृत्व में उपराज्यपाल निवास का घेराव किया. जिसमें राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा मौजूद थीं. ज्ञातव्य है कि पिछले 50 दिनों से अधिक दिनों से कड़कड़ाती ठंड में किसान दिल्ली की सीमाओं पर अपने अधिकारों की लड़ाई के लिए अपना विरोध जता रहे है और सभी प्रदेशों में भी कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं.

राहुल गांधी ने कहा कि भाजपा की केन्द्र सरकार को इन तीनों कानूनों को वापस लेना पड़ेगा. भाजपा और उसकी कोर टीम ने केन्द्रीय कृषि कानूनों का लाकर एक बार फिर किसानों के अधिकारों का हनन किया है. केन्द्र सरकार ने इन कानूनों को किसानों की मदद करने के लिए नही बल्कि किसानों को खत्म करने के लिए बनाया है. राहुल गांधी ने कहा कि सरकार इन कानूनों को पूंजीपति मित्रों की मदद करके उन्हें फायदा पहुॅचाने के लिए लाई है. राहुल गांधी ने चेतावनी दी कि केन्द्र सरकार को कृषि कानूनों को निरस्त करना होगा, कांग्रेस पार्टी किसानों के अधिकारों की लड़ाई में उनके साथ खड़ी है और जब तक कानूनों को वापस नही लिया जाता कांग्रेस पार्टी पीछे नही हटेगी.

अनिल कुमार ने कहा कि 50 से भी अधिक दिनों से केन्द्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर बैठे किसानों में चाहे 60 से भी अधिक किसान अपनी जान गंवा चुके हो, परंतु किसान विरोध प्रदर्शन से पीछे नही हटेंगे, और वे मोदी सरकार को कृषि क्षेत्र को तीनों काले कानूनों के जरिए कॉर्पोरेट्स के हाथों ने नही जाने देंगे. उन्होंने कहा कि केन्द्रीय सरकार के मंत्रियों और किसान नेताओं के बीच 8 बैठकें हुई जो बेनतीजा व्यर्थ का अभ्यास करके खत्म हुई. चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि कांग्रेस पार्टी हमेशा से ही मेहनतकश गरीब जनता के साथ खड़ी है और कांग्रेस पार्टी देश में आम जनता का पेट भरने वाले किसानों के समर्थन के लिए प्रतिबद्ध है. उन्होंने कहा कि किसानों ने कोरोना महामारी (Epidemic) के दौरान बिना रुके काम किया था और जब पूरे देश में लॉकडाउन (Lockdown) चल रहा था, किसानों ने कड़ी मेहनत करके यह सुनिश्चित किया कि कृषि उत्पाद देश की में कमी न हो.

Please share this news