यूपी में जमीन तलाशने पहुंचे ओवैसी तो बीजेपी के चाणक्य अमित शाह ने उनके गढ़ में दे दी दस्तक – Daily Kiran
Saturday , 23 October 2021

यूपी में जमीन तलाशने पहुंचे ओवैसी तो बीजेपी के चाणक्य अमित शाह ने उनके गढ़ में दे दी दस्तक

हैदराबाद . उत्तरप्रदेश (Uttar Pradesh) में अगले साल-2022 में विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) प्रस्तावित हैं लेकिन चुनावी महाभारत अभी से आरंभ हो गई है. सूबे में भाजपा को सत्ता से बाहर करने के इरादे से पूरे दम-खम से जुटे हैं. वहीं किसान नेता राकेश टिकैत की ओर से उन्हें बीजेपी की बी टीम और चाचाजान तक की संज्ञा दे दी गई है. अपने मिशन को सफल करने के लिए ओवैसी दावा कर रहे हैं कि इस बार यूपी में एम-वाई समीकरण नहीं चलने वाला है. बल्कि इस बार ए-टू-जेड समीकरण ही सत्ता का रास्ता दिखाएगा. ओवैसी उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में 100 सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान कर रहे हैं. अगर बिहार (Bihar) को छोड़ दें तो बंगाल में ओवैसी की पार्टी कुछ खास नहीं कर पाई है. ऐसे में इधर ओवैसी यूपी में एआईएमआईएम के लिए जमीन तलाशने की कोशिश में लगे हैं. उधर गृह मंत्री और बीजेपी के चाणक्य कहे जाने वाले अमित शाह ने उनके गढ़ हैदराबाद में दस्तक दे दी. जहां उन्होंने कांग्रेस, टीआरएस और मजलिस के गठजोड़ पर करारा चोट किया.

अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस का पूरे देश में पतन हो रहा है और कांग्रेस सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) का तेलंगाना में विकल्प नहीं हो सकती है, केवल भाजपा ही विकल्प हो सकती है. उन्होंने कहा कि तेलंगाना के लोग भाजपा के साथ हैं, जो 2019 के लोकसभा (Lok Sabha) चुनावों और इसके बाद दुब्बाक विधानसभा उपचुनाव तथा पिछले वर्ष हुए बृहद हैदराबाद नगर निगम चुनावों से पता चलता है. उन्होंने कहा कि टीआरएस को एआईएमआईएम (ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन) का सहयोग लेना पड़ा (नगर निकाय चुनावों के बाद). उन्होंने कहा, ‘पूरे देश में कांग्रेस का खात्मा हो रहा है. तेलंगाना में कांग्रेस टीआरएस का विकल्प नहीं हो सकती है. आप बताइए अगर कांग्रेस मजलिस (एआईएमआईएम के भय) के कारण विकल्प बनती है तो वह वही करेगी जो टीआरएस कर रही है. क्या वे ओवैसी के खिलाफ वे लड़ सकते हैं?… तेलंगाना का सम्मान केवल भाजपा बढ़ा सकती है और कोई नहीं.’

उन्होंने कहा कि सरदार पटेल ने तेलंगाना को 17 सितंबर 1948 को स्वतंत्र करा दिया था, लेकिन सही स्वतंत्रता तब आएगी जब एआईएमआईएम के सहयोग के बिना सरकार बनेगी. उन्होंने टीआरएस के कथित परिवार शासन पर प्रहार किया. उन्होंने कहा कि केवल भाजपा ही ऐसी सरकार दे सकती है, जो परिवार के शासन से मुक्त हो.
 

Please share this news

Check Also

ममता के वित्तमंत्री को आरोप, डर के कारण 6 साल में 35,000 कारोबारी देश छोड़कर जा चुके

कोलकाता (Kolkata) .बंगाल की ममता सरकार में वित्त मंत्री अमित मित्रा ने मोदी सरकार पर …