Sunday , 26 January 2020
डेटिंग ऐप्स का करें सावधानी से इस्तेमाल, शेयर किया जा रहा है आपका निजी डाटा

डेटिंग ऐप्स का करें सावधानी से इस्तेमाल, शेयर किया जा रहा है आपका निजी डाटा

अगर आप भी डेटिंग ऐप्स का इस्तेमाल करते हैं तो आपको सावधानी से रहने की जरूरत है. एक नई रिपोर्ट के मुताबिक, टिंडर, ओकेक्यूपिड और ग्रिन्डर जैसी डेटिंग ऐप्स समेत दस लोकप्रिय ऐप्स बिना यूजर्स की अनुमति के डिजिटल मार्केटिंग कंपनियों के साथ यूजर्स का डाटा शेयर कर रही हैं. नॉरवीजियन कंज्यूमर काउंसिल (एनसीसी) की तरफ से कराए गए अध्ययन में लोगों से कहा गया है कि अगर वे चाहते हैं कि उनकी जानकारी सुरक्षित रहे तो इन ऐप्स को कभी इंस्टॉल न करें.

इन ऐप्स का किया गया अध्ययन

इस अध्ययन में ग्रिन्डर, हैपन, ओकेक्यूपिड और टिंडर जैसे डेटिंग ऐप्स, क्लू और माईडेज नाम के पीरियड ट्रेकर ऐप्स, मेकअप ऐप परफेक्ट, धार्मिक ऐप मुस्लिम: किब्ला फाइंडर, बच्चों के ऐप टॉकिंग टॉम 2, कीबोर्ड ऐप वेब कीबोर्ड को टेस्ट किया गया. इस अध्ययन में इन ऐप्स की जून, 2019 से नवंबर, 2019 के बीच की गतिविधियों को जांचा गया. इस अध्ययन में यह देखा गया कि यह ऐप्स कैसे लाेगों का पर्सनल डाटा थर्ड पार्टियों को भेजती हैं.

ऐप्स के एंड्रॉयड वर्जन का हुआ टेस्ट

इन ऐप्स को सलिए चुना गया क्योंकि यह स्वास्थ्य, धर्म, बच्चों और सेक्शुअल प्रिफरेंस जैसी कैटेगरीज में गूगल प्ले में सबसे ज्यादा लोकप्रिय थीं. इन कैटेगरीज में संवेदनशील निजी डाटा को प्रोसेस किए जाने की संभावना अधिक रहती है. एंड्रॉयड के दुनिया में सबसे बड़े मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम होने के कारण इस अध्ययन में इन ऐप्स के एंड्रॉयड वर्जन को टेस्ट किया गया.