अब अखिलेश के बुलावे के इंतजार में नहीं चाचा शिवपाल, 11 अक्टूबर तक का दिया अल्टीमेटम – Daily Kiran
Saturday , 4 December 2021

अब अखिलेश के बुलावे के इंतजार में नहीं चाचा शिवपाल, 11 अक्टूबर तक का दिया अल्टीमेटम

लखनऊ (Lucknow) .यूपी विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) से पहले छोटे दल भी अपनी सियासी चाल चलने में जुटे हुए हैं,लेकिन समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव और चाचा शिवपाल यादव के रिश्तों पर जमी बर्फ पिघलने का नाम नहीं ले रही है. शिवपाल सपा के साथ गठबंधन के लिए लंबा इंतजार करने के मूड में नहीं हैं.अखिलेश को 11 अक्टूबर तक गठबंधन फाइनल करने का शिवपाल ने आखिरी अल्टीमेटम दे दिया है.हालांकि, माना जा रहा था कि मुलायम के जन्मदिन पर यादव परिवार एक हो जाएगा, लेकिन 22 नवंबर में अभी काफी समय है.

सपा अध्यक्ष अखिलेश इस बार सूबे के छोटे-छोटे दलों के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ने की कोशिश में जुटे हैं. इसी कड़ी में उन्होंने अपने चाचा शिवपाल की पार्टी को भी साथ लेने की बात लगातार की है. वहीं, शिवपाल भी साफ तौर पर कह चुके हैं कि सपा के साथ गठबंधन उनकी पहली प्राथमिकता है. इतना ही नहीं शिवपाल अपनी पार्टी का सपा में शर्त के साथ विलय करने तक को राजी हो गए थे. शिवपाल यादव कई बार ये संकेत दे चुके हैं कि यदि उन्हें अखिलेश का बुलावा आता है,तब मैं मिलने जाऊंगा.
सूत्रों की मानें सिंतबर के पहले सप्ताह में शिवपाल और मुलायम के बीच दिल्ली में डेढ़ घंटे की मुलाकात हुई थी. इस दौरान उन्होंने शिवपाल यादव को राजी कर लिया था.इसके बाद मुलायम की अखिलेश के साथ दिल्ली में बैठक हुई थी. मुलायम सिंह ने भाई और बेटे दोनों को समझा दिया था यदि अभी परिवार एकजुट नहीं हुआ,तब चुनाव में इसके गंभीर परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहें. इसके बाद ही शिवपाल यादव अपनी पार्टी का सपा में विलय करने की बात करने लगे थे.अखिलेश और शिवपाल दोनों ही मिलकर चुनाव लड़ने की बातें कर रहे हैं, लेकिन उनके बीच गठबंधन को लेकर न तो कोई मुलाकात हो रही है और न ही कई फॉर्मूला तय हो पा रहा है.इसके बाद में माना जा रहा था कि सपा संस्थापक मुलायम के जन्मदिन 22 नवंबर को सैफाई में पूरा परिवार एकजुट होगा,तब उसी दौरान चाचा-भतीजे के बीच सुलह-समझौता की घोषणा होगी.

मुलायम का जन्मदिन आने में अभी पौने दो महीने का समय बचा है.इसके बाद शिवपाल का धैर्य अखिलेश का बुलावा नहीं मिलने से टूटने लगा है.इटावा में उन्होंने जाहिर किया कि अब बहुत हो गया भतीजे के बुलावे का इंतजार. उन्होंने कहा कि अगर गठबंधन पर 11 अक्टूबर तक अखिलेश का कोई जवाब नहीं आता है,तब प्रदेश की सभी 403 विधानसभा सीट पर अपनी पार्टी के प्रत्याशी को उतारने की तैयारी शुरू कर 12 तारीख से मथुरा (Mathura) से प्रदेश भर के भ्रमण पर निकल जाएंगे. शिवपाल ने कहा कि हमने सपा से गठबंधन के सारे प्रयास कर लिए अब इंतजार अखिलेश के जवाब का है. शिवपाल का धैर्य इसकारण टूट रहा है, क्योंकि विपक्षी गुट के दूसरे दल अपने-अपने गठबंधन को स्वरूप देने में जुटे हैं.असदुद्दीन ओवैसी के साथ सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी की अगुवाई में बने भागीदारी संकल्प मोर्चा में शामिल दल अब सीट शेयरिंग फॉर्मूले पर मंथन कर रहे हैं.राजभर और ओवैसी के साथ शिवपाल की कई दौर की बैठक हो चुकी है, लेकिन सपा के चक्कर में कोई निर्णय नहीं ले पा रहे हैं. शिवपाल ने कहा कि हमारी कई छोटे-बड़े दलों से वार्ता हो रही है.वहीं,ओवैसी-राजभर अक्टूबर के महीने में यूपी में एक बड़ा कार्यक्रम करने जा रहे हैं, जिसमें भागीदारी संकल्प मोर्चा में शामिल सभी दल के नेता एक साथ उपस्थित होने वाले है.

Check Also

शनिश्चरी अमावस्या एवं सूर्य ग्रहण आज एक साथ; भारत में नहीं दिखेगा सूर्य ग्रहण का असर

भोपाल (Bhopal) . आज शनिश्चरी अमावस्या एवं सूर्यग्रहण एक साथ है. इस अवसर पर राजधानी …