Wednesday , 16 June 2021

फर्जी रजिस्ट्री में गवाही देने वाले दो आरोपी गिरफ्तार

उदयपुर (Udaipur). शहर के हिरणमगरी थाना क्षेत्र में छद्म महिला को खड़ा कर जमीन की फर्जी पावर ऑफ एटोर्नी कर कलड़वास की बेशकीमती जमीन की रजिस्ट्री करा कर धोखाधड़ी करने के मामले में पुलिस (Police) ने दो और आरोपियों को गिरफ्तार कर जांच पूर्ण कर अदालत में पेश किया जहां उन्हें न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया.

पुलिस (Police) उप अधीक्षक राजीव जोशी ने बताया कि पाराखेत कलड़वास निवासी पनकी बाई पत्नी माना भील ने हिरणमगरी थाने में 13 जून 2019 को रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसकी कलड़वास में 1.0750 हैक्‍टेयर भूमि है, जिसका फर्जी तरीके से बेचान करने के बारे में क्षेत्र के पटवारी ने आकर बताया. इस मामले में पता चला कि मेरी जगह बिलिया निवासी बादामी बाई पत्नी मांगीलाल बंजारा पनकी बाई बनकर रजिस्ट्रार कार्यालय में पेश हुई और जमीन की फर्जी पावर ऑफ एटोर्नी की रजिस्ट्री कराई.

इस रजिस्ट्री पर बी लॉक आवासीय कॉलोनी बिलिया ग्राम सविना निवासी किशन उर्फ बाबूलाल पुत्र मांगीलाल बंजारा और जापा उमरड़ा निवासी रमेश पुत्र कूका मीणा ने गवाही के तौर पर हस्ताक्षर किए थे. बाद में इन सब आरोपियों ने मिलीभगत कर बोरा मंगरा ढीकली निवासी जगदीश पुत्र दलपत भील के नाम 42 लाख रूपये में रजिस्ट्री करा दी.

इस मामले में आरोपी धोली मंगरी निवासी रमेश व लोगर डांगी और बोरा मंगरा ढीकली निवासी गणेश पुत्र माना गमेती, प्रतापनगर निवासी प्रेम सिंह पुत्र मान सिंह ने योजनाबद्ध रूप से षडय़ंत्र रच कर जगदीश भील के नाम पर विक्रय इकरार करा लिया. इस विक्रय इकरार पर विजय सिंह पथिक नगर पर भैरूराम पुत्र केसुराम और मेहसाणा गुजरात (Gujarat) निवासी विजय पुत्र मनसुखलाल पटेल ने षडय़ंत्र कर गवाही दी.

इस मामले में रिमांड पर चल रहे आरोपी आवासीय कॉलोनी बिलिया सविना निवासी किशन उर्फ बाबूलाल पुत्र मांगीलाल बंजारा और जापा उमरड़ा निवासी रमेश पुत्र कूका भील से जांच पूर्ण कर अदालत में पेश किया जहां दोनों को न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया. फर्जी रजिस्ट्री, पावर ऑफ एटोर्नी व अन्य कूटरचित दस्तावेज जत किए. मामले में लिप्त अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है.

Please share this news