ट्रंप पूर्व वकील कोहेन और न्यायाधीश एंगोरोन के साथ आमना-सामना के बाद अदालत से चले गए

न्यूयॉर्क, 26 अक्टूबर . अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपने पूर्व वकील मिशेल कोहेन और न्यायाधीश आर्थर एंगोरोन से आमना-सामना के बाद नाराज होकर मैनहट्टन अदालत से चले गए, क्‍योंकि जिला अटॉर्नी लेटिटिया जेम्स द्वारा दायर 25 करोड़ डॉलर के कर धोखाधड़ी मामले में आदेश की अवहेलना करने के कारण उन पर 10,000 डॉलर का जुर्माना लगाया गया. ट्रंप ने जज और उनके पूर्व वकील के रवैए को पक्षपातपूर्ण बताया.

ट्रंप बुधवार को अदालत में चली गर्मागर्म बहस के बाद न्यूयॉर्क सिटी कोर्ट रूम से बाहर निकल गए. पूर्व राष्ट्रपति को उनके 250 मिलियन डॉलर के कर धोखाधड़ी मामले में गवाह के रूप में बुलाया गया था और पहले के गैग आदेश का उल्लंघन करने के कारण 10,000 डॉलर का जुर्माना लगाया गया था. मीडिया की कई खबरों में कहा गया है कि पहली बार में उन पर 5,000 डॉलर का जुर्माना लगाया गया था.

ट्रंप के अचानक चले जाने से उनके वकील और उनके सीक्रेट सर्विस एजेंट सहित सभी लोग हैरान रह गए, वे कुछ दूर तक उनके पीछे दौड़ेे भी.

एनबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, पूर्व वकील माइकल कोहेन ने गवाही दी कि उन्होंने ट्रंप के कहने पर ट्रंप बिजनेस की संपत्तियों को मौजूदा अचल संपत्ति मूल्यों से अधिक बढ़ा दिया था.

ट्रंप के व्यावसायिक मामलों की देखरेखख कर रहे न्यायाधीश आर्थर एंगोरोन ने पत्रकारों को पहले दी गई टिप्पणी के लिए ट्रंप पर 10,000 डॉलर का दूसरा जुर्माना लगाया, क्‍योंकि उन्‍होंने न्यायाधीश पर “पक्षपात” का आरोप लगाया था.

ट्रंप ने कहा कि वह कोहेन का जिक्र कर रहे थे, जिन्हें उन्होंने चूहा, झूठा और अपराधी कहा है, लेकिन मीडिया की कई खबरों में कहा गया कि ट्रंप ने कोहेन को झूठा और धोखेबाज कहा.

ट्रंप ने पहले संवाददाताओं से कहा कि एंगोरोन “एक बहुत ही पक्षपातपूर्ण न्यायाधीश हैं और उनके साथ एक ऐसा व्यक्ति बैठा है जो बहुत पक्षपाती है, शायद उनसे भी कहीं ज्‍यादा.”

एनबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, न्यायाधीश एंगोरोन ने कहा कि उन्होंने ट्रंप की संक्षिप्त गवाही को “विश्‍वसनीय नहीं” पाया और गैग ऑर्डर का उल्लंघन करने के कारण उन्‍होंने उन पर जुर्माना लगाया और सोशल मीडिया में उनके कानून क्लर्क की निंदा की. एंगोरोन के इनकार करने के 45 मिनट बाद गुस्से में दिखेे ट्रंप अदालत कक्ष से बाहर चले गए. इसके बाद पूरे अदालत कक्ष में खलबली मच गई.

वहां से निकलने के बाद ट्रंप ने संवाददाताओं से कहा, “गवाह ने अभी स्वीकार किया है कि हमने मुकदमा जीत लिया है और न्यायाधीश को यह मुकदमा तुरंत खत्म करना चाहिए. धन्यवाद.”

ट्रंप के वकील क्लिफ रॉबर्ट ने कोहेन की गवाही का खंडन किया और कहा कि ट्रंप ने कभी भी कोहेन को अपने वित्तीय विवरण आगे बढ़ाने का निर्देश नहीं दिया था.

एनबीसी ने कहा, राज्य अटॉर्नी जनरल के कार्यालय से पूछताछ के तहत कोहेन ने बाद में गवाही दी कि ट्रंप ने उन्हें विशेष रूप से संख्या बढ़ाने के लिए नहीं कहा था और कहा था कि वह एक “भीड़ मालिक” की तरह हैं जो सीधे आपको बताता है कि वह क्या चाहता है.

जब कोहेन ने गवाह स्टैंड पर अपने उग्र दो दिन पूरे कर लिए, तो रॉबर्ट ने फिर से एंगोरोन से निर्देशित फैसले के लिए कहा, जिसे अस्वीकार कर दिया गया.

न्यायाधीश एंगोरोन ने कहा, “इस मामले में हर जगह विश्‍वसनीय सबूत हैं.” जज ने पहले कहा था कि ट्रंप अपने वित्तीय विवरणों में हेरफेर के साथ “लगातार धोखाधड़ी” करने में लगे हुए थे.

उन्होंने कहा, “इस मामले में पर्याप्त सबूत हैं.”

कोहेन ने अदालत कक्ष से बाहर निकलने के बाद संवाददाताओं से कहा : “वे मामले को खारिज करने के लिए एक प्रस्ताव रखना चाहते थे, जिस पर न्यायाधीश ने जवाब दिया : ‘बिल्कुल नहीं’. आप जानते हैं क्यों? क्योंकि अंततः उन्हें जवाबदेह ठहराया जाएगा.”

एसजीके

Check Also

दिल्ली में जामिया कैंपस में हुई झड़प में 3 घायल

नई दिल्ली, 2 मार्च . जामिया मिलिया इस्लामिया (जेएमआई) परिसर में दो समूहों के बीच …