भाजपा को चुनौती देने में टीएमसी सफल, दो लोस चुनाव में कांग्रेस पूरी तरह फेल : ममता बनर्जी – Daily Kiran
Sunday , 28 November 2021

भाजपा को चुनौती देने में टीएमसी सफल, दो लोस चुनाव में कांग्रेस पूरी तरह फेल : ममता बनर्जी

नई दिल्‍ली . पश्चिम बंगाल (West Bengal) विधानसभा के उपचुनाव में भवानीपुर सीट से फतह हासिल करने के बाद मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी के हौंसले बुलंद हैं और उन्होंने एक बार फिर कांग्रेस पर निशाना साधा है. ममता बनर्जी ने कहा है कि तृणमूल कांग्रेस, कांग्रेस के बिना कोई विपक्षीय मंच बनाने के बारे में नहीं सोच रही है लेकिन ये भी सच है कि देश की सबसे पुरानी पार्टी पिछले दो लोकसभा (Lok Sabha) चुनावों में भाजपा को चुनौती देने में विफल रही है. ममता बनर्जी ने टीएमसी के मुखपत्र के दुर्गा पूजा संस्करण के एक लेख में यह टिप्पणी की. दिल्ली आर डाक (दिल्ली की पुकार) शीर्षक से छपे लेख के जरिए टीएमसी अध्यक्ष ने दावा किया कि उनकी पार्टी केंद्र में भाजपा को सत्ता से बाहर करने का बड़ा चेहरा बनकर उभरी है. उन्होंने कहा, बीजेपी को सत्‍ता से बाहर का रास्‍ता दिखाने के लिए सभी विपक्षी दलों को एकजुट होना चाहिए. हमें देश के हित में एकजुट होना है. उन्‍होंने कहा कि हमने कांग्रेस के बिना किसी भी विपक्ष के बारे में नहीं सोचा है.

हालांकि, मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा, वास्तविकता यह है कि हाल के दिनों में कांग्रेस पार्टी दिल्ली में भाजपा का सामना करने में विफल रही है और पिछले दो लोकसभा (Lok Sabha) चुनाव इसका सबूत हैं. ऐसा पहली बार नहीं है जब टीएमसी ने अपने मुखपत्र के जरिए कांग्रेस पर निशाना साथा है. पिछले हफ्ते, गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री (Chief Minister) और कांग्रेस नेता लुइज़िन्हो फलेरियो के टीएमसी में शामिल होने के बाद भी टीएमसी ने कांग्रेस की आलोचना करते हुए एक लेख प्रकाशित किया था.
तृणमूल कांग्रेस बंगाल में खुद को ‘मुख्य कांग्रेस’ बताते हुए दावा किया है कि कांग्रेस की विरासत अब ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली पार्टी के हाथों में है. इसने कांग्रेस को एक अप्रासंगिक पोचडोबा (छोटे तालाब) के रूप में उपहासपूर्ण ढंग से दिखाया गया है.

Check Also

पोर्नोग्राफी केस में राज कुंद्रा को झटका

नई दिल्ली (New Delhi) . अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के पति और बिजनेसमैन राज कुंद्रा की …

. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .