टीएमसी सांसद बोले- राहुल नहीं ममता हैं विपक्ष का चेहरा – Daily Kiran
Thursday , 28 October 2021

टीएमसी सांसद बोले- राहुल नहीं ममता हैं विपक्ष का चेहरा

नई दिल्ली (New Delhi) . लोकसभा (Lok Sabha) चुनाव-2024 में भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री को नरेंद्र मोदी को मात देने के लिए विपक्षी दलों के एकजुट होने की कवायद चल रही हैं. इधर, तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) नेता, राहुल गांधी को विपक्ष का चेहरा नहीं मान रहे हैं. वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के खिलाफ पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री (Chief Minister) ममता बनर्जी को चेहरा बता रहे हैं. कोलकाता (Kolkata) में हुई टीएमसी की आंतरिक बैठक में यह बात सामने आई. अब जब विपक्षी दलों के एक साथ आने की अटकलें तेज हो रही हैं, तो ऐसे समय में टीएमसी नेता की तरफ से आए इस बयान को काफी अहम माना जा रहा है. टीएमसी के वरिष्ठ सांसद (Member of parliament) सुदीप बंदोपाध्याय ने कहा, ‘हम कांग्रेस के बगैर गठबंधन की बात नहीं कर रहे हैं. मैंने राहुल गांधी को लंबे समय तक देखा है और उन्होंने खुद को मोदी के विकल्प के तौर पर विकसित नहीं किया है. पूरा देश ममता को चाहता है, इसलिए हम ममता का चेहरा रखेंगे और प्रचार अभियान चलाएंगे.’ हाल ही में सीएम बनर्जी के भतीजे अभिषेक ने भी एक बयान के जरिए कांग्रेस को कमजोर बताया था.

टीएमसी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के लिए हमेशा सम्मान रखा है, लेकिन जब भी बात राहुल गांधी की आती है, तो पार्टी के नेताओं ने आपत्ति जाहिर की है. पार्टी चाहती है कि ममता विपक्ष का चेहरा बनें और पार्टी के नेताओं ने यह मांग बार-बार दोहराई है. हालांकि, सीएम बनर्जी अब तक यही कह रही हैं कि उनके लिए पद से ज्यादा विपक्ष की एकता मायने रखती है. सीएम ममता के दिल्ली दौरे का विश्लेषण दिखाता है कि यह विपक्षी की एकता से भरा हुआ था. हालांकि, संसद सत्र शुरू होने के बाद राहुल गांधी की नाश्ता बैठक में टीएमसी भी शामिल हुई थी. लेकिन टीएमसी ने यह बता दिया था कि वे विपक्षी एकता के कार्यक्रमों में ज्यादा दिलचस्पी रखते हैं और इस बात से सहमत नहीं हो सकते कि हर चीज का आयोजन राहुल गांधी करें.
बंगाल विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) में जीत दर्ज करने के बाद टीएमसी ने इस बात पर जोर दिया है कि 2024 की जंग में कांग्रेस अगुवा नहीं, साथ लड़ने वाला योद्धा है. बंदोपाध्याय की तरफ से भी दिए गए बयान में यही भावना नजर आई थी. कांग्रेस सांसद (Member of parliament) प्रदीप भट्टाचार्य ने कहा, ‘2024 में क्या होगा, इसका अनुमान अभी से लगाना बहुत जल्दबाजी है.’ अब तक कांग्रेस और टीएमसी के बीच संबंध अच्छे रहे हैं. सियासी जानकारों का मानना है कि 2024 तक इन संबंधों में कई उतार-चढ़ाव आएंगे.
 

Please share this news

Check Also

कांग्रेस देश और प्रदेश में नाम की बची, ये क्या कम उपलब्धि है:जयराम

करसोग . ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर का चुनाव चिन्ह कमल नंबर एक पर है और वो …