Wednesday , 23 June 2021

मप्र में गरज-चमक के साथ बारिश होने के आसार

भोपाल (Bhopal) . मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में गरज-चमक के साथ एक बार फिर से बा‎रिश होने के आसार बन रहे हैं. मौसम ने पुन: करवट ली है. बुधवार (Wednesday) से राजधानी सहित मध्य प्रदेश के कई जिलों में बादल छाने लगे हैं. राजधानी स‎हित प्रदेश में कई स्थानों पर बुधवार (Wednesday) रात को गरज-चमक के साथ हल्की बौछारें पड़ीं. इससे वातावरण में कुछ ठंडक घुल गई. मौसम विज्ञानियों के मुताबिक वर्तमान में अलग-अलग चार वेदर सिस्टम सक्रिय हैं. इस वजह से गरज-चमक के साथ बारिश होने के आसार बन गए हैं. इस तरह की स्थिति चार दिन तक बनी रहने की संभावना है. इस दौरान कहीं-कहीं ओलावृष्टि भी हो सकती है.

मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक वर्तमान में एक पश्चिमी विक्षोभ जम्मू-कश्मीर में बना हुआ है. इसके प्रभाव से पश्चिमी राजस्थान (Rajasthan)पर एक प्रेरित चक्रवात बन गया है. दक्षिण-पूर्वी मप्र से लेकर कर्नाटक (Karnataka) तक एक पूर्वी हवाओं का ट्रफ बना हुआ है. इस सिस्टम के साथ पश्चिमी हवाओं का टकराव हो रहा है. इसके अतिरिक्त दक्षिण-मध्य महाराष्ट्र (Maharashtra) पर भी एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है. इन चार सिस्टम के कारण प्रदेश में हवाओं के साथ नमी आने लगी है. इससे बुधवार (Wednesday) रात से बादल छाने लगे हैं. साथ ही गरज-चमक के बौछारें पड़ने लगी हैं. विशेषकर गुरुवार (Thursday) और शुक्रवार (Friday) को भोपाल (Bhopal) , जबलपुर, सागर संभाग के जिलों के अलावा श्योपुरकलां, डिंडोरी जिले में गरज-चमक के साथ बरसात होने की संभावना है. लगातार नमी मिलने के कारण मौसम का इस तरह का मिजाज चार दिनों तक बना रह सकता है. उधर बेमौसम बरसात से खेत में खड़ी गेहूं की फसल और आम की फसल को भी भारी नुकसान पहुंचने की आशंका बढ़ गई है.

मौसम विज्ञानी पीके साहा ने बताया कि गुरुवार (Thursday) को बरसात की गतिविधियों में और तेजी आएगी. इस दौरान 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं भी चलने के आसार हैं. बारिश के साथ ही कहीं-कहीं ओलावृष्टि भी हो सकती है.

Please share this news