Thursday , 22 October 2020

जो लोग सबसे ज्यादा खुश होते वही आज हमारे बीच नहीं हैं: मंत्री हर्षवर्धन


नई दिल्ली (New Delhi) . केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कर्नाटक (Karnataka) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) बी.एस. येदियुरप्पा के साथ मिलकर आज बेल्लारी स्थित विजयनगर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज का सुपर स्पेशलिटी ट्रॉमा सेंटर राष्ट्र को समर्पित किया. बाद में केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने ट्रामा सेंटर में एक्सप्रेस फीडर लाइन, आईसीयू वार्ड और 13 किलोग्राम के लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन टैंक का उद्घाटन किया. कर्नाटक (Karnataka) के चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. के. सुधाकर ने सेंटर में बनाए गए अत्याधुनिक सीटी स्कैन केन्द्र का उद्घाटन किया जो 128 क्रॉस सेक्शन स्लाइस लेने में सक्षम है.

इस केन्द्र को प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना (पीएमएसएसवाई) के तहत 150 करोड़ रुपये की लागत से बनाया है. इसमें आपात चिकित्सा केन्द्र के साथ ही ट्रॉमा, तंत्रिका शल्य चिकित्सा और अस्थिरोग विभाग हैं. इस नए ब्लॉक में अत्याधुनिक सीटी स्कैन और डिजिटल एक्स-रे मशीन से सुसज्जित 6 माड्यूलर थियेटर के साथ कुल 8 ऑपरेशन थियेटर, 200 सुपर स्पेशियलिटी बिस्तर, 72 आईसीयू बिस्तर और 20 वेंटिलेटरों की सुविधा है. इस सेंटर में 27 स्नातकोत्तर के छात्रों के लिए प्रशिक्षण की सुविधा भी होगी.

पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री अटल बिजारी वाजपेयी के 2003 में स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर दिए गए संबोधन को याद करते हुए डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, “वाजपेयी जी की भविष्य की सोच की वजह से ही स्वतंत्रता के 56 साल बाद भारत में दिल्ली के एक एम्स के अलावा छह और एम्स बनकर तैयार हो पाए और अन्य 56 मौजूदा संस्थानों को भी चिकित्सा सेवाओं के मामले में एम्स के समान उन्नत बनाए जाने की कल्पना की गई थी.” डॉ.हर्षवर्धन ने तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज के पीएमएसएसवाई योजना में योगदान और बेल्लारी के साथ उनके जीवन भर के जुड़ाव को भी याद करते हुए कहा “वे लोग जो आज सबसे ज्यादा खुश होते हमारे बीच नहीं हैं.

डॉ. हर्षवर्धन ने इस योजना को आगे बढ़ाने के लिए अपना व्यक्तिगत ध्यान और ऊर्जा लगाए जाने के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) (Prime Minister Narendra Modi) के बारे में अपने अनुभव को याद करते हुए कहा कि पीएमएसएसवाई के तीसरे चरण की घोषणा 2019 के बाद की गई और इसके अगले साल ही बेल्लारी को यह ट्रामा सेंटर मिल गया. उन्होंने कहा कि आकांक्षी जिलों में 74 मेडिकल कॉलेज खोले जाने का काम जोर शोर से चल रहा है. उन्होंने उपस्थित लोगों को बताया कि कर्नाटक (Karnataka) राज्य के लिए एक नया एम्स विचाराधीन है और जो चार मेडिकल कॉलेज बनाए जा रहे हैं, उनमें से एक चिक्कमगलुरु, एक हावेरी, एक यादगीर और एक चिक्काबल्लापुर जैसे आकांक्षी जिलों में बनाए रहे हैं. उन्होंने कहा कि अब तक 157 मेडिकल कॉलेज केंद्रीय वित्तपोषण और राज्य प्रशासन की स्थानीय निगरानी के साथ खोले गए हैं.