रुस-चीन को दहला देगी अमेरिका की यह एयर-ब्रीथिंग हाइपरसोनिक मिसाइल – Daily Kiran
Thursday , 9 December 2021

रुस-चीन को दहला देगी अमेरिका की यह एयर-ब्रीथिंग हाइपरसोनिक मिसाइल

 

वॉशिंगटन . अमेरिका ने रूस-चीन के साथ जारी विवाद के बीच एयर-ब्रीथिंग हाइपरसोनिक हथियार की सफल टेस्टिंग की है.पेंटागन ने सोमवार (Monday) को इसकी जानकारी दी. पेंटागन के मुताबिक ये हथियार ध्वनि से 5 गुना (guna) ज्यादा की गति रखता है.अमेरिका के 2013 के बाद से ही ऐसा टेस्ट करने की कोशिश में था, अब जाकर इसमें कामयाबी मिली है. पेंटागन ने जानकारी दी है कि हाइपरसोनिक एयर ब्रीथिंग वेपन कॉन्सेप्ट टेस्ट पिछले हफ्ते किया गया है. इस टेस्ट के साथ हम नई पीढ़ी की ओर बढ़ रहे हैं.अमेरिकी मिलिट्री की ताकत को मजबूत कर रहे हैं. अमेरिका इस साल के अंत तक ऐसा ही एक और टेस्ट करने की तैयारी में है. हाइपरसोनिक हथियार एक घंटे में करीब 6200 किमी. की दूरी तय करते हैं.

बता दें कि अमेरिका से पहले जुलाई 2021 में रूस ने हाइपरसोनिक क्रूज मिसाइल का टेस्ट किया था, इस रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का प्रोजेक्ट कहा गया. रेडार की पकड़ में नहीं आने वाली इस नई अमेरिकी मिसाइल की मारक क्षमता 2700 किलोमीटर है. मिसाइल के साथ ही अमेरिका रूस और चीन पर दूर से ही भीषण हमला करने में सक्षम हो गया है.

इसके द्वारा दक्षिण चीन सागर और चीन के हैनान द्वीप समूह पर स्थित सैनिक ठिकाने या चीन की मुख्‍य भूमि पर जोरदार हमला किया जा सकता है.अ‍मेरिकी नौसेना अपनी हाइपरसोनिक मिसाइल को सभी 69 ड्रिस्‍ट्रायरों पर तैनात करेगी.विशेषज्ञों का कहना है कि यह मिसाइल दुश्‍मनों के लिए युद्ध के समय काल का काम करेगी.इतनी रेंज के साथ इस मिसाइल को अब प्रशांत महासागर में दक्षिण कोरिया, ताइवान, जापान या फिलीपीन कहीं भी तैनात किया जा सकता है.अमेरिका अपनी मिसाइल को 3 लाख वर्ग मील के इलाके में कहीं भी छिपा सकता है.

Check Also

ऑस्ट्रेलिया के शीतकालीन ओलंपिक का राजनयिक बहिष्कार करने पर भड़का चीन

सिडनी . ऑस्ट्रेलिया के बीजिंग में होने वाले शीतकालीन ओलंपिक खेलों 2022 के राजनयिक बहिष्कार …