Wednesday , 16 June 2021

आईपीएल 2021 में नहीं होगा सॉफ्ट सिग्नल नियम, कप्तान कोहली ने उठाए थे सवाल

नई दिल्ली (New Delhi) . टीम इंडिया के मुखिया विराट कोहली ने हाल ही में थर्ड-अंपायर के एक फैसले का उल्लेख करते हुए सॉफ्ट सिग्नल नियम को समाप्त करने की बात कही थी. इस पर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने चर्चा की और इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल (Indian Premier League)) में इसे हटाने का फैसला किया है. इसका मतलब है कि आईपीएल (Indian Premier League) 14 में साफ्ट सिग्नल नियम लागू नहीं होगा.

बीसीसीआई ने स्पष्ट रूप से कहा है कि थर्ड अंपायर के फैसले का हवाला देते समय ऑन-फील्ड अंपायरों को सॉफ्ट सिग्नल देने की अनुमति नहीं होगी. जब कोई आईपीएल (Indian Premier League) 2020 और अब आईपीएल (Indian Premier League) 2021 से पहले खेलने की स्थिति के परिशिष्ट डी-क्लॉज 2.2.2 को देखता है, तो एक स्पष्ट बदलाव होता है और यह सॉफ्ट सिग्नल के उपयोग से संबंधित है. आईपीएल (Indian Premier League) 2021 के प्लेइंग कंडीशन्स में बताया गया है कि थर्ड अंपायर के निर्णय का उल्लेख करते हुए ऑनफील्ड अंपायर का सॉफ्ट सिग्नल देना मान्य नहीं होगा. सॉफ्ट सिग्नल को हटाने का निर्णय इसलिए लिया गया है ताकि थर्ड अंपायर ऑन-फील्ड कॉल को ध्यान में रखे बिना सर्वश्रेष्ठ संभव निर्णय ले सके.

सूत्रों के हवाले से घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले ने कहा कि ऐसा अंपायरिंग निर्णय लेने में किसी भी भ्रम से बचने के लिए किया गया है. ऐसे मामले सामने आए हैं, जिनमें थर्ड अंपायर को स्पष्टता देने के बजाय सॉफ्ट सिग्नल में तरह-तरह का भ्रम पैदा किया गया है और इसीलिए यह महसूस किया गया कि ऑन-फील्ड अंपायर नहीं होने पर थर्ड अंपायर के फैसलों का जिक्र करने के पुराने तरीके पर वापस जा रहे हैं. निश्चित रूप से पालन किया जाना चाहिए. इसी के साथ ही शॉट रन के फैसले में भी बदलाव किया गया है.

आईपीएल (Indian Premier League) 2021 में अपडेट के मुताबिक थर्ड अंपायर शॉट रन चैक करेगा और ऑन-फील्ड अंपायरों द्वारा किए गए फैसले को पलट सकते हैं. शॉट रन को लेकर पिछले साल आईपीएल (Indian Premier League) में दिल्ली कैपिटल्स और किंग्स इलेवन पंजाब (Punjab) (अब पंजाब (Punjab) किंग्स) के बीच विवाद भी हुआ था जिसके बाद पंजबा टीम की मैनेजमेंट ने इसे लेकर शिकायत भी दर्ज करवाई थी. मैच टाइमिंग को मापने के लिए प्रत्येक इनिंग में 20वां ओवर 90 मिनट में ही एड होगा. इससे पहले 20वां ओवर 90वें मिनट या उसके बाद शुरू होता था. अपडेटिड दिशानिर्देशों में, अब थर्ड अंपायर ऑन-फील्ड अंपायर द्वारा किए गए नो-बॉल निर्णय को पलट सकता है. खेलने की स्थिति में एक और अपेडट खंड है और यह बताता है कि एक निर्बाध मैच में, बाद के सुपर ओवरों को बंधे हुए मैचों के वास्तविक समाप्त समय (घंटा 16.3.1) से एक घंटे के समय तक खेला जा सकता है.

Please share this news