Friday , 7 May 2021

मौसम के मिजाज में एक बार फिर होगी तब्दीली

भोपाल (Bhopal) . प्रदेश के मौसम के ‎मिजाज में एक बार फिर तब्दीली आने वाली है. कल प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में हल्की बारिश होने की संभावना जताई जा रही है. नए साल की शुरुआत में हवाओं का रुख बदलने से अरब सागर से नमी मिलने लगी है. इससे दिन और रात के तापमान में कुछ बढ़ोतरी जरूर होने लगी है, लेकिन अभी कड़ाके की सर्दी का दौर जारी रहेगा.

मौसम विज्ञानियों के मुताबिक दो जनवरी को पूर्वी और पश्चिमी हवाओं का सम्मिलन होने से प्रदेश में कई स्थानों पर हल्‍की बरसात का दौर शुरू होने की संभावना है. इस दौरान कही-कहीं ओले गिरने की भी आशंका है. उधर दो दिन बाद प्रदेश में पूर्वी और पश्चिमी हवाओं का सम्मिलन होने की संभावना है. विपरीत दिशाओं की हवाओं का टकराव होने से ग्वालियर (Gwalior), चंबल, भोपाल (Bhopal) , सागर, उज्जैन संभाग के जिलों में दो जनवरी से रुक-रुक कर बरसात का दौर शुरू हो सकता है. इस दौरान इंदौर (Indore) संभाग के जिलों में भी कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बूंदाबांदी हो सकती है. साथ ही प्रदेश में एक-दो स्थानों पर ओले भी गिर सकते हैं. उधर तीन जनवरी से एक पश्चिमी विक्षोभ भी उत्तर भारत में दाखिल होने जा रहा है. उसके प्रभाव से उत्तर भारत के पहाड़ों में एक बार फिर बर्फबारी शुरू हो जाएगी, लेकिन हवाओं का रुख बदला हुआ रहने के कारण फिलहाल न्यूनतम तापमान में गिरावट होने की संभावना कम है. पश्चिमी विक्षोभ के आगे बढ़ने पर सात जनवरी के आसपास एक बार फिर हवा का रुख उत्तरी होने का अनुमान है.

वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि वर्तमान में उत्तर भारत से आ रही सर्द हवाओं के कारण राजधानी सहित प्रदेश के अधिकतर इलाकों में न्यूनतम तापमान सामान्य से कम बने हुए हैं. विशेषकर दतिया, ग्वालियर (Gwalior) में न्यूनतम तापमान काफी गिरे हुए हैं. शुक्ला ने बताया कि छत्तीसगढ़ पर एक प्रति चक्रवात बना हुआ है. इससे गुरुवार (Thursday) को हवा का रुख दक्षिण-पश्चिमी हो गया. वातावरण में नमी बढ़ने से बादल आने लगे. इससे गुरुवार (Thursday) को पूरे प्रदेश में अधिकतम तापमान में बढ़ोतरी दर्ज की गई. अब न्यूनतम तापमान में भी बढ़ोतरी होने लगी है.

Please share this news