Thursday , 26 November 2020

प्रदेश सरकार ने किया काउ कैबिनेट का ऐलान

भोपाल (Bhopal) . प्रदेश सरकार ने लव जिहाद कानून के बाद अब प्रदेश में गोधन के संरक्षण और संवर्धन के लिए काउ कैबिनेट के गठन का ऐलान किया है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने बताया कि गौ कैबिनेट की पहली बैठक 22 नवंबर को आगर-मालवा जिले में स्थित गो अभयारण्य में होगी.

उनकी इस घोषणा के साथ ही इस पर सियासत शुरू हो गई है. पूर्व मुख्यमंत्री (Chief Minister) कमल नाथ ने इस पर सवाल खड़े किए और शिवराज सरकार को पुराना वायदा भी याद दिलाया है. पूर्व मुख्यमंत्री (Chief Minister) कमल नाथ ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि 2018 के विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) के पूर्व प्रदेश में गौ मंत्रालय बनाने की घोषणा करने वाले शिवराज सिंह अब गोधन संरक्षण और संवर्धन के लिए गौ कैबिनेट बनाने की बात कर रहे हैं.

उन्होंने अपनी चुनाव के पूर्व की गयी घोषणा में गौमंत्रालय बनाने के साथ-साथ पूरे प्रदेश में गौ अभ्यारण और गौशालाओं का जाल बिछाने का वादा किया था. हर घर में छोटी-छोटी गौशाला बनाने की भी बात भी उन्होंने अपनी चुनावी घोषणा में कही थी.

कमल नाथ ने लिखा कि अपनी पूर्व की घोषणा को भूलकर शिवराज फिर एक नई घोषणा कर रहे हैं. सभी जानते हैं कि अपनी 15 वर्ष की सरकार में और वर्तमान 8 माह में शिवराज सरकार ने गौ माता के संरक्षण और संवर्धन के लिए कुछ नहीं किया. उल्टा गौमाता के लिये चारे की राशि में कांग्रेस सरकार ने जो बीस रुपये प्रति गाय का प्रावधान किया था, उसे भी कम कर दिया.

मध्य प्रदेश में काऊ कैबिनेट के गठन को लेकर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा का बयान सामने आया है. उन्होंने कहा गीता, गंगा, गौ माता हमारे शुभदाता हैं. इसलिए गौ कैबिनेट बनाई गई है. कमल नाथ के काऊ कैबिनेट पर ट्वीट के जरिये सवाल उठाने पर नरोत्तम मिश्रा ने कहा कमल नाथ उपचुनाव परिणाम आने के बाद से कहां है, अब वो सिर्फ ट्वीटर पर ही मिलेंगे.