Monday , 30 November 2020

DNA रिपोर्ट से तय होगा कुत्‍ते का मालिक कौन, सैंपल लेने पचमढ़ी और इटारसी जाएगी पुलिस


भोपाल (Bhopal) . लैब्राडोर डॉग प्रजा‎ति के एक डॉग के मालिकाना हक को लेकर दो दावेदार आमने-सामने आ गए हैं. अब इस अनूठे मामले के ‎निपटारे के लिए पुलिस (Police) ने पशु चिकित्सक की मदद ली है. पशु चिकित्सक ने डॉगी ब्लड सेंपल ‎लेकर पुलिस (Police) को सौंप ‎दिया है ता‎कि उसका डीएनए परीक्षण कराया जा सके. इस ब्लड का मिलान पचमढ़ी और इटारसी के डॉग से लिया जाएगा. जिसके बाद डीएनए मिलान के लिए सैंपल को प्रयोगशाला भेजा जाएगा. हालांकि पुलिस (Police) यह नहीं कर सकी है कि ब्लड सैंपल का मिलान कहां कराएगी. सागर और भोपाल (Bhopal) में डीएनए मिलान की व्यवस्था है.

हालांकि इस रिपोर्ट के तैयार में समय लग सकता है. पिछले दो दिन से मामला इंटरनेट मीडिया (Media) पर भी छाया हुआ है. दोनों पक्षों की ओर से तरह तरह की पोस्ट भी की जा रही है. होशंगाबाद निवासी शादाब खान का आरोप है कि अगस्त माह में उसका डॉग खो गया था जिसकी लिखित आवेदन देहात थाने में दे चुका है. दस हजार रुपये में डॉग को बेचने का प्रयास किया जा रहा था तभी उसे जानकारी लग गई थी. देहात थाने के अमले की मदद से लैब्राडोर डॉग उसे मिल गया था, लेकिन अगले दिन उसका डॉग वापस लेकर कृतिक को सौंप दिया गया है.

कृतिक का कहना है कि डॉग कुछ दिन पहले ही खरीदा था. उसका डॉग धोखे से लेकर गए हैं. पुलिस (Police) के आदेश पर वह डॉग का डीएनए कराने के लिए तैयार है. अब डॉग के डीएनए मिलान के लिए सैंपल लेने देहात पुलिस (Police) का अमला पशु चिकित्सक को लेकर पचमढ़ी और इटारसी जाएगा. दो पक्षों ने मालिकाना हक को लेकर दावा किया है.शादाब खान का कहना है कि डॉग को पचमढ़ी से लिया था डॉग का असली मालिक वहीं है. वहीं कृतिक शिवहरे का कहना है कि डॉग को इटारसी से लिया था. दोनों पक्षों के दावों को लेकर देहात थाना प्रभारी हेमंत वास्तव उलझे हुए हैं. देहात थाना प्रभारी हेमंत वास्तव का कहना है ब्लड सैंपल के मिलान की जो रिपोर्ट आएगी उसी के आधार पर डॉग के मालिक तय किया जाएगा.