यूपी में भी टला नहीं है बारिश से तबाही का खतरा – Daily Kiran
Saturday , 23 October 2021

यूपी में भी टला नहीं है बारिश से तबाही का खतरा

कानपुर (Kanpur) . उत्‍तर प्रदेश के कई जिलों में लगातार दूसरे दिन भी बारिश का खतरा टला नहीं है. मौसम विभाग ने 10 जिलों में बारिश को लेकर रेड अलर्ट जारी किया है. सरकार ने प्रदेश के सभी शिक्षण संस्थानों को एहतियातन बंद रखने का आदेश कल ही जारी कर दिया था. मौसम विभाग ने चेताया है कि अगले तीन दिन तक भारी बारिश हो सकती है. बारिश के साथ 80 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने का भी संभावना है. कई स्‍थानों पर आकाशीय बिजली गिरने का खतरा भी मंडरा रहा है. जिन जिलों के लिए अलर्ट जारी किया गया है उनमें बांदा, उन्‍नाव, फतेहपुर, कानपुर, कानपुर (Kanpur) देहात, हरदोई, गौतमबुद्ध नगर और अलीगढ़ (Aligarh) शामिल हैं. गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कई शहरों में बुधवार (Wednesday) रात से हो रही मूसलाधार बारिश ने कहर ढा दिया है. गुरुवार (Thursday) को जगह-जगह मकान, दीवार, पेड़ और बिजली के खंभे गिर गए. रेलवे (Railway)ट्रैक पर ओएचई लाइन टूट जाने से कई ट्रेनों के पहिए थम गए. विमान सेवा बाधित हुई.

बिजली व्यवस्था चरमरा गई. कुल 50 लोगों की मौत हो गई है. कई घायल हैं. सबसे ज्यादा नुकसान अवध क्षेत्र में हुआ है. लखनऊ (Lucknow) में तीन समेत यहां 21 लोगों की जान चली गई. भारी बारिश की वजह से राजधानी लखनऊ (Lucknow) में भी जनजीवन बुरी तरह अस्‍त-व्‍यस्‍त हो गया है. कल मोहिबुल्लापुर स्टेशन पर जलभराव में डूबने से दो बच्चों की और अलीगंज में बिजली का झटका लगने से एक बच्चे की जान चली गई. निगोहा में एक घर, मोहनलालगंज में तहसील की छत समेत आधा दर्जन घरों की दीवारें ढह गईं. लखनऊ (Lucknow) का दो तिहाई हिस्सा जलमग्न हो गया. वहीं बाराबंकी के बसायगपुर मजरा ढेमा, खुशेहटी्, महमूदपुर मजरे टिकरा घाट, जेठौती कुर्मियान और रबड़हिया गांव में दीवार व कच्चे मकान गिरने से पिता-पुत्र समेत आठ लोगों की मौत हो गई है. पेड़ टूटने से लखनऊ (Lucknow)-अयोध्या (Ayodhya) नेशनल हाईवे पर डेढ़ घंटे से अधिक जाम लगा रहा. रेलवे (Railway)ट्रैक पर पेड़ गिरने से साबरमती ट्रेन हादसे का शिकार होते-होते बची. मुख्यमंत्री (Chief Minister) योगी आदित्यनाथ को बाराबंकी का दौरा भी रद्द करना पड़ा. रायबरेली (Bareilly) के पोरई, टिकरिया व जायस गांव में सात साल की बच्ची व दो महिलाओं की मौत हो गई. दीवार व छप्पर गिरने से अमेठी जिले में पांच साल की बच्ची समेत दो, अयोध्या (Ayodhya) के दोस्तपुर व देवगिरी गांव में दो, सुलतानपुर के गोसाईगंज व कोतवाली देहात में दो और सीतापुर के महमूदाबाद में एक बच्ची की जान चली गई. कुछ लोग घायल भी हैं और विभिन्न अस्पतालों में उनका इलाज चल रहा है. सैकड़ों गांवों में अंधेरा पसर गया.

Please share this news

Check Also

ममता के वित्तमंत्री को आरोप, डर के कारण 6 साल में 35,000 कारोबारी देश छोड़कर जा चुके

कोलकाता (Kolkata) .बंगाल की ममता सरकार में वित्त मंत्री अमित मित्रा ने मोदी सरकार पर …