Wednesday , 2 December 2020

उदीयमान भगवान भास्कर को अर्घ्य देने के साथ ही छठ महापर्व का समापन

पटना (Patna) . सूर्य उपासना का महापर्व छठ के चौथे दिन आज सुबह व्रतियों ने उगते सूर्य को अर्घ्य दिया. इसी के साथ चार दिनों तक चले छठ पर्व का समापन हो गया. शनिवार (Saturday) तड़के सुबह ही घाट पर श्रद्धालु पहुंचे उगते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया. बिहार (Bihar) की राजधानी पटना (Patna) के अलग-अलग गंगा घाटों, तालाबों, जलाशयों, घर और अपार्टमेंट की छतों पर व्रतियों ने भगवान भास्कर को अर्घ्य दिया और पूजा अर्चना की. बिहार (Bihar) के साथ-साथ देश के अलग-अलग राज्यों में छठ पर्व की धूम देखने को मिली. भक्तों ने नदी, जलाशयों पर सुबह-सुबह पहुंचकर उदय होते सूर्य को अर्घ्य दिया. बिहार (Bihar) की राजधानी पटना (Patna) में गंगा घाटों पर पहुंचकर व्रतियों ने उदीयमान सूर्य को अर्घ्य अर्पण किया. अर्घ्य प्रदान करने के साथ ही प्रसाद ग्रहण करने का सिलसिला शुरू हुआ और इसी के साथ उपवास रखने वाले छठ व्रतियों ने छठ मैया का प्रसाद ग्रहण कर व्रत तोड़ा. श्रद्धालु शनिवार (Saturday) तड़के सुबह से ही छठ घाट पर पहुंचने लगे और सूर्योदय के साथ ही भगवान भास्कर को जल में खड़े होकर अर्घ्य दिया. बिहार (Bihar) सरकार में मंत्री अशोक चौधरी ने परिवार के साथ उगते हुए सूर्य को दिया अर्घ्य. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के प्रयागराज (Prayagraj)में महापर्व छठ की धूम, भक्तों ने शनिवार (Saturday) सुबह उगते सूर्य को दिया अर्घ्य. दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के नोएडा (Noida) में उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देते श्रद्धालु. वाराणसी (Varanasi) में गंगा नदी के किनारे छठ व्रतियों ने उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देकर पूजा-अर्चना की.