Friday , 22 January 2021

18 करोड़ की लागत से तालकटोरा की बदलेगी सूरत

जयपुर (jaipur) . पिंकसिटी की शान तालकटोरा गंदे पानी और मलबे के ढेर में तब्दील हो चुका है पर्यटन निगम की ओर से अब तालकटोरा के दिन फिरने वाले है पर्यटन निगम जल्द ही सौंदर्यीकरण और जीर्णोद्धार का कार्य शुरू करने जा रहा है 18 करोड़ की लागत से होने वाले इस कार्य से न केवल तालकटोरा की सूरत (Surat) बदल जाएगी. तालकटोरा परकोटे के सबसे बड़े पर्यटन केंद्र के रूप में उभरेगा.

दरअसल, महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय ने 293 वर्ष पूर्व तालकटोरा यानी उस समय की शिकारगाह बैठकर ही जयपुर (jaipur)की इबारत लिखी थी जब जयपुर (jaipur)का निर्माण हुआ तो तालकटोरा का भी निर्माण किया गया. परकोटे में बसे गुलाबी नगर के बीचोंबीच इस तालकटोरा में बादल महल का निर्माण कराया गया. लेकिन कालांतर में जयपुर (jaipur)के विकास के साथ-साथ परकोटे के चारों तरफ बसी कॉलोनियों का गंदा पानी तालकटोरा में जमा होता गया और जयपुर (jaipur)की शान कहा जाने वाला तालकटोरा एक बदबूदार मलबे के ढेर में तब्दील हो गया. अब स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत तालकटोरा की सूरत (Surat) और तस्वीर बदलने का प्रोजेक्ट हाथ में लिया गया है.

राजस्थान (Rajasthan)पर्यटन विकास निगम को इसके लिए कार्यकारी एजेंसी बनाया गया है पर्यटन निगम ने भी तालकटोरा के सौंदर्यीकरण के लिए 18 करोड़ से ज्यादा के टेंडर कर दिए गए है. पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए सरकार अब नाइट टूरिज्म को बढ़ावा देने की तैयारी कर रही है. इसके लिए जयपुर (jaipur)शहर के बीचोंबीच स्थित तालकटोरा को संवारने का फैसला किया गया है. तालकटोरा को लेकर कई बार योजनाएं बनी लेकिन कोई भी योजना धरातल पर नहीं आ सकी. अब स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत पर्यटन विकास निगम को कार्यकारी एजेंसी बनाया गया है. पर्यटन निगम न केवल तालकटोरा का सौंदर्यीकरण कराएगा, इसके बफर जोन को भी संवारने की जिम्मेदारी पर्यटन निगम के पास है. प्रोजेक्ट के तहत तालकटोरा के आसपास के 52 मकानों को चिन्हित किया गया है. उनका भी कायाकल्प किया जाएगा.प्लान के अनुसार, सभी मकानों को एकरूप किया जाएगा.

Please share this news