बंगाल में चुनावी हिंसा पर ममता की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और चुनाव आयोग को नोटिस दिया – Daily Kiran
Sunday , 28 November 2021

बंगाल में चुनावी हिंसा पर ममता की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और चुनाव आयोग को नोटिस दिया

 

 

नई दिल्ली (New Delhi) . बंगाल में चुनाव के बाद हिंसा के मामले में ममता सरकार की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने केंद्र सरकार (Central Government)और चुनाव आयोग को भी नोटिस जारी कर केंद्र से जवाब मांगा है. सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने कहा, ‘बंगाल सरकार ने नोटिस जारी करने का मामला बनाया है. हम केंद्र को जवाब दाखिल करने के लिए कम समय देंगे. मामले की अगली सुनवाई 7 अक्टूबर को होगी.

सुनवाई के दौरान बंगाल सरकार ने कहा जांच पैनल के सदस्य भाजपा से जुड़े हैं. कानूनी मुद्दों को आपराधिक कानून से निपटने की जरूरत है, कमेटी द्वारा नहीं. ये जांच संघीय ढांचे के खिलाफ है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) के शपथ लेने के बाद जो घटनाएं हुईं, उन्हें भी चुनाव के बाद की हिंसा की श्रेणी में रखा गया. अगर राज्य की एजेंसियां सही तरीके से काम नहीं कर रही हैं तो केस-टू-केस के आधार पर केस ट्रांसफर करें. लेकिन यहां, कलकत्ता हाईकोर्ट द्वारा सभी मामलों को एक साथ ट्रांसफर कर दिया गया है. CBI एक केंद्रीय एजेंसी है जो राजनीतिक बदले में काम कर रही है.

सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने सभी पक्षकारों की दलील सुनने के बाद केन्द्र, सीबीआई, चुनाव आयोग, और हाईकोर्ट में याचिकाकर्ता रहे लोगों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है.
सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने पश्चिम बंगाल (West Bengal) की उस याचिका को स्वीकार किया, जिसमें चुनाव के बाद हिंसा के मामलों की CBI जांच का निर्देश देने वाले कलकत्ता हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती दी गई है. कोर्ट ने कहा कि राज्य ने जनहित याचिका याचिकाकर्ताओं को नोटिस जारी करने का मामला बनता है, जिसके आधार पर हाईकोर्ट ने CBI जांच का आदेश दिया था. कपिल सिब्बल ने CBI की कार्रवाई पर रोक लगाने कि मांग की, जिस पर कोर्ट ने कहा कि हम दूसरे पक्ष को सुने बिना कोई आदेश नहीं जारी करेंगे.

Check Also

पोर्नोग्राफी केस में राज कुंद्रा को झटका

नई दिल्ली (New Delhi) . अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के पति और बिजनेसमैन राज कुंद्रा की …

. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .