Tuesday , 17 September 2019

गाय के गोबर और गोमूत्र से प्रोडक्ट बनाने का शुरू करें बिजनेस, सरकार देगी 60 प्रतिशत फंड

भाजपा के केंद्रीय स्तर के कई शीर्ष नेताओं की ओर से गाय और उसके बाय प्रोडक्ट के इस्तेमाल पर जोर दिया जाता रहा है. लेकिन अब केंद्र सरकार ने इस मुहिम को आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी ली है. दरअसल अब केंद्र सरकार की तरफ से गाय के गोबर और गोमूत्र से नए प्रोडक्ट बनाने का कारोबार शुरू करने पर सरकारी फंड हासिल किया जा सकेगा.

गौमूत्र और गाय के गोबर का औषधीय और कृषि कार्यों में इस्तेमाल

राष्ट्रीय कामधेनु आयोग के चेयरमैन ने कहा है कि डेयरी के साथ-साथ गाय के गोबर और गोमूत्र से बने उत्पाद बनाने वाले स्टार्टअप के लिए लोग शुरुआती निवेश की 60 फीसदी सरकारी फंडिंग मिलेगी. काउ बोर्ड के चेयरमैन वल्लभ कठेरिया के मुताबिक युवाओं को गाय और उसके बाय प्रोडक्ट आधारित उद्योग के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा और उनसे गाय का इस्तेमाल दूध और घी के लिए ही नहीं, बल्कि गौमूत्र और गाय के गोबर के औषधीय और कृषि कार्यों में इस्तेमाल पर जोर दिया जाएगा.

500 करोड़ रुपए के शुरुआती निवेश के साथ कामधेनु आयोग की शुरुआत

टीओआई में छपी खबर के मुताबिक नरेंद्र मोदी सरकार ने इसी साल फरवरी में 500 करोड़ रुपए के शुरुआती निवेश के साथ कामधेनु आयोग की शुरुआत की थी. इसका उद्देश्य इस तरह के नए बिजनस को रफ्तार देना है. कठेरिया ने कहा कि वे गाय के बाय प्रॉडक्ट्स के औषधीय इस्तेमाल पर होने वाले रिसर्च को प्रोत्साहित करने का काम करेंगे. बोर्ड ऐसे बाय प्रॉडक्ट्स के लिए स्कॉलर्स और रिसर्चर्स को अपना प्रोजेक्ट दिखाने के लिए एक मंच भी देगा.