Monday , 10 May 2021

जल्द भाजपा में शामिल हो सकता है शुभेंदु अधिकारी का पूरा परिवार

कोलकाता (Kolkata) . पश्चिम बंगाल (West Bengal) में विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) की मुनादी से पहले ही बड़े सियासी उठा-पटक देखने को मिल रहे हैं. हाल ही में टीएमसी का साथ छोड़ भाजपा का दामन थामने वाले शुभेंदु अधिकारी ने संकेत दिया है कि उनका पूरा परिवार जल्दी ही भाजपा में शामिल हो सकता है.

भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी ने स्पष्ट संकेत दिया कि उनके पिता शिशिर अधिकारी और भाई दिब्येंदु अधिकारी जल्द ही भाजपा में शामिल हो सकते हैं. उल्लेखनीय है कि 19 दिसंबर को भाजपा में आने से पहले शुभेंदु अधिकारी ममता सरकार में मंत्री थे. मंगलवार (Tuesday) को अधिकारी ने उत्तर 24 परगना के खारदाह में एक सार्वजनिक रैली को संबोधित किया और इस दौरान तृणमूल सांसद (Member of parliament) अभिषेक बनर्जी की एक टिप्पणी का जवाब दिया. अभिषेक बनर्जी ने कहा था कि जो व्यक्ति अपने घर में कमल नहीं खिला सकता, वह पूरा प्रदेश में भाजपा को जिताने का दावा कैसे कर सकता है? जवाब में शुभेंदु अधिकारी ने कहा अभी बहुत समय बाकी है, अभी रामनवमी नहीं मनाई गई है और मेरे परिवार में भी कमल खिलेगा. मैं आपको विश्वास दिलाना चाहता हूं कि 30 बी हरीश चटर्जी स्ट्रीट में परिवार में कमल खिलेगा.

अधिकारी ने आरोप लगाया कि तृणमूल सरकार केंद्रीय योजनाओं के नाम बदलकर यह दावा करती है कि उन्हें राज्य प्रशासन ने शुरू किया है. अधिकारी पश्चिम मेदिनीपुर जिले के इस मुफस्सिल शहर में रोड शो का नेतृत्व करने के बाद एक विशाल रैली को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने आरोप लगाया कि तृणमूल अपना नेतृत्व सिर्फ कोलकाता (Kolkata) तक केंद्रित रखती है और ग्रामीण क्षेत्रों को प्रतिनिधित्व नहीं दिया जाता उन्होंने कहा कि तृणमूल के 21 लोकसभा (Lok Sabha) सांसदों में से दस और अधिकतर मंत्री कोलकाता (Kolkata) से हैं.

भाजपा नेता ने कहा मैं विश्वासघाती नहीं हूं. मैं मेदिनीपुर से आता हूं जो मातंगिनी हाजरा, खुदीराम बोस और ईश्वर चंद्र विद्यासागर जैसे देशभक्तों की भूमि है. मैं उस विरासत का वंशज हूं. दरअसल, पूर्वी मेदनीपुर जिले से शुभेंदु के पिता शिशिर अधिकारी और भाई दिब्येंदु टीएमसी के सांसदद हैं. शुभेंदु अधिकारी और उनके परिवार ने पूर्वी मिदनापुर में टीएमसी के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. अधिकारी का परिवार राजनीतिक रूप से काफी मजबूत है और इस जिले में आने वाली ज्यादातर विधानसभा सीटों पर अपनी मजबूत पकड़ रखते हैं. कांथी और तमलुक लोकसभा (Lok Sabha) सीटों और इस जिले में 78 वर्षीय शिशिर अधिकारी और उनके तीन बेटों का 2009 से ही गजब का नियंत्रण है. शिशिर अधिकारी टीएमसी के सबसे वरिष्ठ लोकसभा (Lok Sabha) सदस्य हैं, जो कांथी निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं.

शुभेंदु अधिकारी के भाई दिब्येंदु तमलुक से लोकसभा (Lok Sabha) सदस्य हैं, जबकि तीन भाई-बहनों में सबसे छोटे सौम्येंदु कांथी नगर पालिका के अध्यक्ष थे, मगर मंगलवार (Tuesday) को टीएमसी ने उन्हें पद से हटा दिया. उनकी जगह अब सिद्धार्थ मैती को यह जिम्मेदारी दी गई है. तृणमूल कांग्रेस के कुछ स्थानीय नेताओं ने आरोप लगाया है कि सौम्येंदु शहर प्रशासक के पद से भाजपा के लिए काम कर रहे थे.

Please share this news