कुछ लोगों ने चुपके से लगवाई कोरोना बूस्टर डोज, डॉक्टरों ने किया आगाह – Daily Kiran
Saturday , 23 October 2021

कुछ लोगों ने चुपके से लगवाई कोरोना बूस्टर डोज, डॉक्टरों ने किया आगाह

मुंबई (Mumbai) . देश की आर्थिक राजधानी में कुछ लोगों को कोरोना वैक्‍सीन की तीसरी डोज लगाई गई है. कई देशों में तीसरी डोज ‘बूस्‍टर’ के रूप में दी जा रही है, मगर भारत में इसपर अभी चर्चा ही हो रही है. सूत्रों के अनुसार, पिछले कुछ हफ्तों में कई नेताओं और उनके स्‍टाफ समेत कुछ हेल्‍थकेयर वर्कर्स ने एक्स्‍ट्रा डोज लगवा ली है. हालांकि डॉक्‍टर्स ने ‘बूस्‍टर’ डोज लेने के प्रति आगाह किया है.

सूत्रों के मुताबिक, एक युवा नेता, उनकी पत्‍नी और स्‍टाफ ने बूस्‍टर डोज लगवा ली है. सूत्रों के अनुसार, कुछ हेल्‍थकेयर वर्कर्स ने या तो बिना रजिस्‍ट्रेशन के तीसरी डोज ली या फिर कोविन पर दूसरे मोबाइल नंबर का इस्‍तेमाल किया. माना जा रहा है कि इनमें से कई ने एंटीबॉडीज लेवल्‍स चेक कराने के बाद डोज लगवाई. एक वरिष्‍ठ फिजिश‍ियन ने बताया कि तीसरी डोज लेने वाले लोगों की सूची में मुख्‍यत: चिकित्सक शामिल हैं, जिन्‍होंने फरवरी तक दोनों डोज ले ली थीं और अब पाया कि उनके एंटीबॉडी का लेवल घट गया है.

अस्‍पताल के सूत्र ने कहा कि बूस्‍टर डोज के लिए कोविशील्‍ड लगाई गई है. कुछ मामलों में वैक्‍सीन के वायल से 11वीं डोज निकाली गई. एक और अस्‍पताल के प्रमुख ने कहा कि तीसरी डोज उस वायल से निकाली गई जिसमें कुछ डोज बाकी थीं, मगर उन्‍हें लगवाने वाला कोई नहीं था. उन्‍होंने कहा हेल्‍थकेयर वर्कर्स ने अपने साथियों के बीच ब्रेकथ्रू इन्‍फेक्‍शंस होते देखे हैं और सामने आ रहे वेरिएंट्स को लेकर चिंतित हैं. मेडिकल एक्‍सपर्ट्स खुद पर ऐसे किसी प्रयोग के खिलाफ सलाह देते हैं. महाराष्‍ट्र के एडीशनल चीफ सेक्रेटरी (हेल्‍थ) डॉ प्रदीप व्‍यास ने कहा कि तीसरी डोज कुछ मामलों में जानलेवा साबित हो सकती है. उन्‍होंने कहा इस मामले में साइंटिफिक तरीके से सोचने की जरूरत है, इमोशंस में बहने की जरूरत नहीं है.

एडीशनल म्‍यूनिसिपल कमिश्‍नर सुरेश काकनी ने कहा ऐसी संभावना है कि हर वायल की एक्‍स्‍ट्रा डोज इसके लिए इस्‍तेमाल हो रही है. अगर कोई एक्‍स्‍ट्रा डोज का यूज कर रहा है तो किसी रजिस्‍ट्रेशन की जरूरत नहीं है. लेकिन जो लोग इसे ले रहे हैं, उनसे मेरा सवाल है कि उन्हें कैसे पता कि यह काम करती भी है या नहीं. कई देशों ने कोरोना वैक्‍सीन की तीसरी डोज को मंजूरी दे रही है, ज्‍यादातर मामलों में तीसरी डोज बुजुर्गों को दी गई है.

यूके में हेल्‍थकेयर स्‍टाफ को गुरुवार (Thursday) से बूस्‍टर डोज लगना शुरू किया गया है. अमेरिका में 20 सितंबर से तीसरी डोज लगनी शुरू होगी. इजरायल ने अपनी रिसर्च में पाया है कि बूस्‍टर डोज के कम से कम 12 दिन बाद, उस ग्रुप में इन्‍फेक्‍शन का खतरा 11 गुना (guna) कम हो गया और गंभीर बीमारी का खतरा 19.5 गुना (guna) कम हुआ. हालांकि, दो नामी अमेरिकी वैक्‍सीन वैज्ञानिकों ने बूस्‍टर डोज की जरूरत पर सवाल उठाए हैं. डब्ल्यूएचओ ने भी रईस देशों से फिलहाल बूस्‍टर डोज लगाने पर रोक लगाने को कहा है.

Please share this news

Check Also

ममता के वित्तमंत्री को आरोप, डर के कारण 6 साल में 35,000 कारोबारी देश छोड़कर जा चुके

कोलकाता (Kolkata) .बंगाल की ममता सरकार में वित्त मंत्री अमित मित्रा ने मोदी सरकार पर …