प्रशिक्षक दिल्ली के साथ पूरे देश और दुनिया में योग की इस मशाल को आगे लेकर जाएंगे: सिसोदिया

नई दिल्ली (New Delhi) . दिल्ली के उपमुख्यमंत्री (Chief Minister) मनीष सिसोदिया ने योग दिवस की सभी को शुभकमनाएं देते हुए कहा कि बजट के दौरान इस पूरे प्रोग्राम की घोषणा की गई थी. योग दिवस के अवसर पर हम इसे आगे बढ़ाने के लिए एक पायदान पर पहुंच गए हैं. इसकी परिकल्पना सीएम अरविंद केजरीवाल ने रखी थी. उन्होंने परिकल्पना रखी थी कि दुनिया को भारत ने योग और ध्यान सिखाया है.

आज दुनिया में कहीं मेडिटेशन और ध्यान की बात होती है, तो भारत की बात होती है. दुनिया में कहीं भी योग की बात होती है, तो भारत की बात होती है. ऐसे में राजधानी के लोग योग से वंचित क्यों रहें. उन्होंने इसकी परिकल्पना की कि क्या ऐसा नहीं हो सकता है कि सरकार यह जिम्मेदारी ले कि दिल्ली के हर एक व्यक्ति को जो योग करना चाहता है, जो योग सीखना चाहा है या रोजमर्रा की जिंदगी में योग को शामिल कर अपने दिन की शुरूआत करना चाहता है, अपने मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए योग को अपनाना चाहता है, उसको योग और मेडिटेशन के शिक्षक उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी सरकार ले और आखिरकार आज यहां 450 योग और मेडिटेशन के इंस्ट्रक्टर के ट्रेनिंग का कार्य शुरू कर रहे हैं. पहले तीन महीने की ट्रेनिंग काफी आक्रामक होगी. उसके बाद यह सब लोग क्षेत्र में जाकर लोगों को योगा और मेडिटेशन की प्रैक्टिस कराना शुरू कर सकते हैं और साथ-साथ अपना कोर्स भी जारी रख सकेंगे. यह पूरा डिप्लोमा एक साल का है.

इसका यह पहला है. मुझे उम्मीद है कि आप सभी सीएम अरविंद केजरीवाल विजन को जमीन पर जाकर साकार करेंगे. यह एक साल का अनूठा कोर्स है, जिसमें योगा और मेडिटेशन को बहुत अच्छे शामिल किया गया है. इसमें पतंजलि का योग है तो भगवान बुद्ध का ध्यान भी उतनी ही सिद्दत से शामिल किया गया है. मुझे लगता है कि योग एंड मेडिटेशन कोर्स को पूरा करने के बाद तो हमारे प्रशिक्षक सिर्फ दिल्ली में नहीं, बल्कि पूरे देश और पूरी दुनिया में योग की इस मशाल को आगे लेकर जाएंगे.

Please share this news