Sunday , 12 July 2020
सैलून दुकान को रोज सेनेटाइज कर पीपीई किट में हो रही कटिंग

सैलून दुकान को रोज सेनेटाइज कर पीपीई किट में हो रही कटिंग


नई दिल्ली (New Delhi) . दुनियाभर की नाक में दम करने वाले कोरोना (Corona virus) की रफ्तर कम होती नहीं दिख रही. ऐसे में अब लंबे समय से बंद पड़े कामकाज दोबारा शुरू किए जा रहे हैं. दुकानों से लेकर सैलून तक सभी चीजें अब खास सावधानियों के साथ चालू हुए हैं. दिल्ली के न्यू मोती नगर स्थित गैलेक्सी यूनिसेक्स सैलून नई सुविधाओं के साथ शुरू किया गया है. कर्मचारियों के लिए पीपीई किट, दस्ताने, फेस शील्ड अनिवार्य करने के साथ ही ग्राहकों के लिए मास्क, सेनेटाइजेशन और तापमान की जांच अनिवार्य की गई है.

सैलून संचालक उमेश डंग ने सोशल डिस्टेंसिंग को सुनिश्चित करने के लिए अलग-अलग कुर्सियां लगाने के साथ ही दो कुर्सियों के बीच प्लास्टिक शीट लगाया गया है. एक समय में अधिकतम चार ग्राहकों की मौजूदगी को ध्यान में रखते हुए ही अपॉइंटमेंट दिया जा रहा है. उमेश ने बताया कि सैलून के अंदर प्रवेश से पहले पूरा सेनेटाइज किया जाता है. उसके बाद ही कोई अंदर आ सकता है. दुकान खुलने से इस बात का संतोष है कि काम एक बार फिर शुरू हो गया. छोटे सैलून और नाई की दुकानों में भी कोरोना से बचाव के लिए कदम उठाए जा रहे हैं. मास्क, सेनेटाइजर का प्रयोग अनिर्वाय करने के साथ ही ग्राहकों की मांग पर एक बार प्रयोग होने वाले तौलिये व रेजर का उपयोग भी बढ़ा है. गांधी नगर स्थित साहिब-साहिबा यूनिसेक्स सैलून के मालिक नाजिम के अनुसार लोग बचाव के लिए एक बार प्रयोग होने वाले तौलिये व रेजर की मांग कर रहे हैं. हम भी इस पर जोर दे रहे हैं और ग्राहकों को उपलब्ध करा रहे हैं.

आजाद बारबर एसोसिएशन के अध्यक्ष मोहम्मद इमरान सलमानी के मुताबिक दिल्ली में करीब 25 हजार नाई की दुकान हैं. जहां सेनेटाइजर का प्रयोग अनिवार्य किया गया है. सभी को एक बार प्रयोग होने वाले रेजर, तौलिये व कटिंग सीट का प्रयोग करने का निर्देश दिया गया है. कर्मियों के लिए दस्ताने, फेस मास्क, और संभव हो तो पीपीई किट पहनने को कहा गया है. संक्रमण को लेकर पूरी सावधानी और एहतियात के साथ काम किया जा रहा है. शिवालिक मेन रोड स्थिति सैलून व पार्लर की मालिक व सैलून ओनर्स (Nurse) वेलफेयर एसोसिएशन की उपाध्यक्ष मीनाक्षी दत्त के मुताबिक कोरोना के बाद बहुत कुछ बदलाव आ गए हैं. इस दौर में ग्राहकों के साथ ही स्वयं व कर्मियों का बचाव भी आवश्यक है.

सैलून में इसके तहत कर्मियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है. उनके लिए फेस मास्क के साथ ही फेस शील्ड, एप्रन की व्यवस्था की जा रही है. उन्होंने कहा कि इसलिए अभी कर्मियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है. वहीं ग्राहकों के प्रवेश के लिए भी दिशा-निर्देश तैयार किए गए हैं. इसके तहत मास्क व स्क्रीनिंग के बाद ही प्रवेश की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है. मोबाइल पर आरोग्य सेतु एप भी आवश्यक है. सैलून में वेटिंग एरिया को खत्म कर दिया गया है. सिर्फ अप्वाइंटमेंट से प्रवेश की व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है. इसके साथ ही एक बार प्रयोग होने वाली वस्तुओं का प्रयोग किया जा रहा है.