Tuesday , 31 March 2020
रणजी सेमीफाइनल से DRS के सीमित इस्तेमाल की योजना : सबा करीम

रणजी सेमीफाइनल से DRS के सीमित इस्तेमाल की योजना : सबा करीम

नई दिल्ली.बीसीसीआई के क्रिकेट महाप्रबंधक सबा करीम ने स्पष्ट किया कि हमेशा से अंपायरों के फैसले की समीक्षा प्रणाली (डीआरएस) के रणजी ट्राॅफी सेमीफाइनल से सीमित इस्तेमाल की योजना बनाई गई थी और नाकआउट चरण से इसके इस्तेमाल की योजना नहीं थी. पिछले सत्र में अंपायरों के कुछ नाकआउट मैचों के दौरान काफी खराब फैसले देने क बाद डीआरएस के सीमित इस्तेमाल की योजना बनाई गई थी. हालांकि गुरुवार से शुरू हो रहे क्वार्टर फाइनल मैचों में डीआरएस का इस्तेमाल नहीं होगा.
भारत के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज सबा करीम ने कहा, ‘हम इसे सेमीफाइनल से लागू कर रहे हैं. हमने पहली बार इसे लागू कर रहे हैं, हम इसे सेमीफाइनल से लागू करना चाहते थे और हमने ऐसा किया है. कभी इसके क्वार्टर फाइनल में इस्तेमाल की योजना नहीं थी. रणजी सेमीफाइनल में हालांकि डीआरएस का सीमित इस्तेमाल होगा. हाक आई और अल्ट्रा ऐज की सुविधा उपलब्ध नहीं होगी तो अंतरराष्ट्रीय मैचों में डीआरएस का अहम हिस्सा होते हैं.
सबा करीम ने कहा, हम उस तकनीक का इस्तेमाल कर रहे हैं जो हमारे पास उपलब्ध है. हम डीआरएस का बेहद सीमित इस्तेमाल कर रहे हैं. हमारे पास स्निकोमीटर और बाल ट्रेकिंग नहीं है. हमारे पास रेड जोन और स्पिन विजन है और हम अंपायरों को फैसला करने के लिए वह चीज मुहैया कराने का प्रयास करेंगे जो उपलब्ध है. सबा करीम ने हालांकि इससे पहले पिछले साल जुलाई में कहा था कि नाकआउट मैचों से डीआरएस का इस्तेमाल किया जाएगा.