आरबीआई ने सीआई के 30 दिनों में शिकायत का निवारण न करने पर ग्राहकों के लिए रोजाना 100 रुपये का मुआवजा तय किया

मुंबई, 26 अक्टूबर . आरबीआई ने गुरुवार को नए नियमों की घोषणा की, जिसके तहत किसी क्रेडिट संस्थान (सीआई) या क्रेडिट सूचना कंपनी (सीआईसी) के साथ शिकायतकर्ताओं को शिकायत दर्ज कराने की तारीख से 30 दिनों के भीतर हल नहीं होने पर प्रतिदिन 100 रुपये की दर से मुआवजा पाने का हक दिया गया.

सर्कुलर सभी बैंकों, एनबीएफसी, वित्तीय संस्थानों, परिसंपत्ति पुनर्निर्माण कंपनियों और क्रेडिट सूचना कंपनियों को भेजा गया है.

आरबीआई द्वारा नया नियम नए मुआवजा तंत्र के हिस्से के रूप में पेश किया गया है, जिसे क्रेडिट संस्थानों (सीआई) और क्रेडिट सूचना कंपनियों (सीआईसी) द्वारा क्रेडिट जानकारी के विलंबित अद्यतन/सुधार के लिए लागू किया गया है.

आरबीआई ने सीआईसी और सीआई को मुआवजे की रूपरेखा को निम्नानुसार लागू करने का निर्देश दिया है :

एक शिकायतकर्ता उचित सुधार, परिवर्धन या अन्यथा करके क्रेडिट जानकारी को अपडेट करने के लिए सीआईसी या सीआई से अनुरोध कर सकता है और ऐसे अनुरोध पर सीआई या सीआईसी अनुरोध किए जाने के 30 दिनों के भीतर क्रेडिट जानकारी को अपडेट करने के लिए कदम उठाएगा.

यदि सीआई शिकायतकर्ता या सीआईसी द्वारा सूचित किए जाने के 21 दिनों के भीतर उचित सुधार या परिवर्धन करके या अन्यथा सीआईसी को अद्यतन क्रेडिट जानकारी भेजने में विफल रहता है, तो सीआई शिकायतकर्ता को मुआवजा देगा.

यदि सीआईसी शिकायतकर्ता या सीआई द्वारा सूचित किए जाने के 30 दिनों के भीतर शिकायत को हल करने में विफल रहता है, तो सीआईसी शिकायतकर्ता को मुआवजा देगा, भले ही सीआई ने सूचित होने के 21 दिनों के भीतर सीआईसी को अद्यतन क्रेडिट जानकारी दी हो.

सीआई/सीआईसी द्वारा शिकायतकर्ता को सभी मामलों में शिकायत पर की गई कार्रवाई के बारे में सलाह दी जाएगी, जिसमें वे मामले भी शामिल हैं, जिनमें शिकायत खारिज कर दी गई है. अस्वीकृति के मामलों में अस्वीकृति के कारण भी सीआई और सीआईसी द्वारा बताए जाएंगे.

शिकायतकर्ता को सीआईसी/सीआई द्वारा दिया जाने वाला मुआवजा (शिकायत दर्ज करने के 30 दिनों से अधिक विलंबित समाधान के लिए) संबंधित सीआई/सीआईसी के बीच आनुपातिक रूप से विभाजित किया जाएगा.

एसजीके

Check Also

दिल्ली में जामिया कैंपस में हुई झड़प में 3 घायल

नई दिल्ली, 2 मार्च . जामिया मिलिया इस्लामिया (जेएमआई) परिसर में दो समूहों के बीच …