Tuesday , 7 July 2020
[क्विक टेक] एक साथ कई कामों में मशगूल रहने वालों के लिए अल्ट्राः इरशाद कलीबुलाह

[क्विक टेक] एक साथ कई कामों में मशगूल रहने वालों के लिए अल्ट्राः इरशाद कलीबुलाह

यह 2020 का दौर है और दुनिया बदल चुकी है. लोग घरों की चहारदिवारी में बंद रहने को मजबूर हैं और वहीं से अपने सारे काम कर रहे हैं या करवा रहे हैं, चाहे वे काम उनके पेशे से जुड़े हों या फिर निजी हों. मेरे या मेरी टीम के लिए भी परिस्थितियों में कुछ अंतर नहीं है. यह जरूर है कि व्यस्त, भागमभाग की जिंदगी में रची-बसी दुनिया यदि रातों रात इस नए दौर के साथ अपने को एडजस्ट कर सकी है, तो इसके पीछे एकमात्र कारण है, टेक्नोलॉजी.

 

 

मित्रों और परिजनों को वीडियो कॉलिंग करना हो, अपने भीतर कुलबुलाते शेफ को तलाशना हो या फिर अपने अंदर छिपे फोटोग्राफर को बाहर आने का मौका देना हो… मैंने टेक्नोलॉजी को इतना उपयोगी कभी नहीं पाया.
मेरे स्मार्टफोन ने मुझे हर हाल में दुनिया से जोड़े रखा है, सूचनाओं से अवगत रखा है और हमेशा मेरा मनोरंजन कर मुझे तरोताजा रखने में अहम भूमिक निभाई है.

 

जहां तक काम का सवाल है, हमें चीजों को करने के तरीकों में तेजी से बदलाव करने की जरूरत है. और, इन सबमें सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है सैमसंग गैलेक्सी एस20 अल्ट्रा.

वीडियो शूट करना

चूंकि हमारा ज्यादातर काम ‘मि. फोन’ यू-ट्यूब चैनल के लिए वीडियो तैयार करने से जुड़ा है, जो कि हम अपने स्टूडियो से करते हैं, इसलिए लॉकडाउन (Lockdown) की बंदिशों के कारण उस पर बुरा असर पड़ा है. हमारे घर ही इस समय अस्थाई स्टूडियो में बदल गये हैं. मैं अपने सभी वीडियो शूट के लिए गैलेक्सी एस20 अल्ट्रा इस्तेमाल करता हूं. यह काफी आरामदेह है और काफी पतला भी है, जिससे इसे एक जगह से दूसरी जगह तक ले जाने में आसानी होती है. इतना ही नहीं, इसमें कम्प्रेस्ड फाइल का साइज छोटा हो जाता है, जिसका हमारे काम में बहुत महत्व है क्योंकि हल्की फाइल के कारण हमारे वीडियो एडिटर को फुटेज डाउनलोड करने में ज्यादा समय नहीं लगता और वह उस पर तुरंत काम शुरू कर पाता है. इस कारण हमारी समय सीमा पार नहीं होती. फ्रंट कैमरा, प्राइमरी शूटर और यहां तक कि वाइड एंगल कैमरे से भी जो फुटेज हमें हासिल होता है, वह क्रिस्प और 4के 60एफपीएस पर स्थिर होता है.

गेमिंग के लिए बेहतरीन

नहीं, मैं बिलकुल भी उन लोगों में शामिल नहीं हूं, जिनकी जिंदगी में दिन-रात बस काम के अलावा किसी बात की अहमियत नहीं होती. मुझे गेम खेलना बहुत पसंद है और यह भी एक कारण है जिसके चलते मैं एस20 अल्ट्रा से चिपका रहता हूं. मैं ‘कॉल ऑफ ड्यूटी’ और ‘टीम डेथमैचेज’ जैसे गेम्स के मोबाइल वर्जन का जबर्दस्त प्रशंसक हूं. गैलेक्सी एस20 सीरीज के लिए इसे विशेष तौर पर ऑप्टिमाइज किया गया है और एस20 अल्ट्रा का विशाल डिस्प्ले इसे शूटर्स के लिए एक सटीक डिवाइस बनाता है.

 

यादों को सहेजने के लिए

घर पर रहने के दौरान मेरी पत्नी ने पिछले कुछ हफ्तों में कई तरह की पाक कला पर प्रयोग करते हुए तरह-तरह के व्यंजनों पर अपने हाथ आजमाए हैं. हमारे इन व्यंजन प्रयोगों को हमारी यादों के इतिहास की किताब में एक अनमोल पन्ने की तरह सहेजने में एस20 अल्ट्रा एक बार फिर हमारा मददगार साबित हुआ है. इन लाजवाब तस्वीरों पर जरा एक नजर तो डालिए जो मैंने इसी फोन से लिए हैं. लेकिन यह इतना ही नहीं है. मैंने गुरुग्राम (Gurugram)के ऊपर खूबसूरत (Surat) आसमान को भी अपने कैमरे में कैद किया है. यह मेरे फोन के शानदार और गतिशील रेंज के बिना संभव नहीं हो सकता है.

 

 

अब क्योंकि कहीं कोई सैलून भी नहीं खुल रहा, तो अपनी दाढ़ी की छंटाई भी मुझे खुद ही करनी पड़ रही है. अब जब ऐसी सुगढ़ कला का प्रदर्शन अपने गालों पर खुद से करना हो, तो गलती की गुंजाइश तो रहती ही है. और वही हुआ, जब छंटाई से दाढ़ी का रूप कुछ ऐसा हो गया कि मुझे उसकी पूरी कटाई ही करनी पड़ी. कमाल तो यह हुआ कि मेरी पत्नी ने मुझ से घर पर भी मास्क पहन कर रहने को कहा. इसलिए नहीं कि मैं जुकाम या छींक से परेशान था, बल्कि इसलिए कि अब उसे मेरी शक्ल एक छिले हुए मुर्गे की तरह लग रही है.

 

 

मजाक की बात छोड़ दें, तो भी जैसा कि आप कह सकते हैं कि मैंने एस20 अल्ट्रा को जमकर इस्तेमाल किया है और इसने घर पर रहने से जुड़ी तमाम अव्यवस्थाओं और अफरातफरी के बीच भी रोजमर्रा के मेरे काम को आसान बना दिया है.

 

संक्षेप में सारी बात समेटने के लिए आइए पूरे परिदृश्य पर एक सामान्य नजर डालें. जिस क्षण हमारा यह मजबूरी का एकाकीपन खत्म होगा, उसके बाद हमारे घरों के बाहर दुनिया का जो कार्य-व्यवहार होता है, उसमें हम आमूलचूल बदलाव देखेंगे. मैं इस बात के लिए पूरी तरह आश्वस्त हूं कि इस बदलाव को आसान बनाने में टेक्नोलॉजी की केंद्रीय भूमिका रहेगी. ऑफिस से दूर रहते हुए काम करना ऐसे लोगों के लिए हमेशा एक व्यावहारिक विकल्प होगा, जो ऐसा करना चाहते हैं और स्मार्टफोन, लैपटॉप और उनसे संबंधित उपकरणों की मांग और ज्यादा बढ़ेगी. और जब ऐसा होगा, तब मैं यहीं रहूंगा. न केवल इस बदलाव का साक्षी बनकर, बल्कि इसे सहेजने के लिए भी. जब यह होगा तो आप क्या करेंगे?

[इरशाद कलीबुलाह मि. फोन के मुख्य संपादक हैं. उन्होंने यह लेख सैमसंग न्यूजरूम इंडिया के अनुरोध पर लिखा है.]